पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जागे देव:देव उठते ही निकली बारातें, मास्क पहने दिखे बाराती

रायसेन2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • देव उठनी एकादशी पर घरों में गन्ने के मंडप बनाकर लोगों की ने की पूजा अर्चना, मांगलिक कार्य होंगे

चार महीने से सोए हुए देव बुधवार को देव उठनी एकादशी से जाग गए हैं। इस दिन घरों में गन्ने के मंडप बनाकर तुलसी- शालिग्राम की शादी का आयोजन कर रस्म निभाई। इसके साथ ही अब मांगलिक कार्य प्रारंभ हो गए । 11 दिसंबर तक शादियों के शुभ मुहूर्त है। एकादशी पर मंडप सजाने के लिए लोगों ने खूब गन्ना खरीदा। इस बार गन्ना 10 रुपए में लोगों को मिल गया, जबकि पिछले साल यह गन्ना 20 से 30 रुपए का एक मिला था। वहीं बारात में सभी बारात मास्क में नजर आए।
शादी का मंडप गन्ने से बनाने की परंपरा है। इसलिए यहां शहर में बड़ी मात्रा में गन्ना बिकने के लिए आया था । हालांकि तीन दिन पहले से लोगों ने गन्ने की दुकानें सजा ली थी, जिन पर बुधवार को सबसे ज्यादा गन्ने की बिक्री हुई। शाम को लोगों ने पूजा अर्चना करने के बाद जमकर आतिशबाजी भी चलाई। आतिशबाजी के धमाकों की गूंज देर रात तक सुनाई देती रही ।
पूजा के लिए सिंघाडा, बेर, भाजी की रही मांग
देवउठनी एकादशी की पूजा में गन्ने के साथ ही सिंघाड़ा, बेर, कांदा, पल्ली, अमरुद, चने और मैथी की भाजी, ज्वार सहित अन्य फल सब्जियों को रखा जाता है । इस कारण इनकी भी बाजार में खूब डिमांड रही।

तुलसी का किया दुल्हन की तरह श्रृंगार
हिंदू मान्यताओं के अनुसार कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी पर तुलसी विवाह किया जाता है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन चार महीने के बाद भगवान विष्णु शयन से जागते हैं। इसके बाद ही विवाह, नींव पूजन, गृह प्रवेश तथा अन्य शुभ कार्यों की शुरुआत होती है। इसके लिए तुलसी- सालिग्राम का विवाह करने की परंपरा भी चली आ रही है । इसके लिए घरों में तुलसी का दुल्हन की तरह श्रृंगार किया गया ।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- जिस काम के लिए आप पिछले कुछ समय से प्रयासरत थे, उस कार्य के लिए कोई उचित संपर्क मिल जाएगा। बातचीत के माध्यम से आप कई मसलों का हल व समाधान खोज लेंगे। किसी जरूरतमंद मित्र की सहायता करने से आपको...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser