पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बदली प्रवेश प्रक्रिया:दस्तावेज सत्यापन कराने कॉलेज नहीं जाना होगा

रायसेन25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कियाेस्क से स्कैन कराने के बाद मिलेगा यूजी और पीजी कक्षाओं में प्रवेश

काेराेना की वजह से यूजी और पीजी की प्रवेश प्रक्रिया में बड़ा बदलाव हुआ है। अब छात्र-छात्रा काे सीधे कियाेस्क से ही यूजी और पीजी में एडमिशन मिल जाएगा। छात्र-छात्रा काे दस्तावेज सत्यापन कराने के लिए काॅलेज नहीं जाना हाेगा। हाल ही में हुई उच्च शिक्षा विभाग के साथ काॅलेज की हुई ऑनलाइन बैठक में काेविड काे देखते हुए यह निर्णय हुआ है। अभी यह हाेता है कि कियाेस्क पर दस्तावेज सबमिट करने के बाद दस्तावेजाें का सत्यापन कराने के लिए काॅलेज जाना पड़ता है। इससे वक्त की ताे बर्बादी हाेती है काॅलेज में भीड़ पड़ने से साेशल डिस्टेंस का भी उल्लंघन हाेता है। इसीलिए नए निर्णय के तहत छात्र-छात्रा बस अपने दस्तावेज लेकर कियाेस्क पर जाए।

वहां अपने दस्तावेज स्कैन कराकर सब्मिट कराएं और कियाेस्क से ही फीस जमा करा दें। इस प्रक्रिया से उसे एडमिशन मिल जाएगा। सामान्यतः जून से नया सत्र शुरू हाे जाता है। मगर काेराेना की वजह से ना ताे कक्षा 12वीं की परीक्षा हुई है और न ही यूजी की परीक्षाएं हुई है। इस वजह से अभी काॅलेज में प्रवेश प्रक्रिया शुरू नहीं हाे पाई है।

ओपन बुक पद्धति से होगी परीक्षाएं :

जून के तीसरे सप्ताह से यूजी और पीजी में चतुर्थ व प्रथम सेमेस्टर की परीक्षाएं शुरू हाेना है। काेविड काे देखते हुए इस बार भी परीक्षाएं ओपपन बुक पद्धति से ही हाेना है। जिले भर में परीक्षा में यूजी में बीए, बीकाॅम, बीएससी के लगभग 10 हजार छात्र-छात्राएं व पीजी के प्रथम व चतुर्थ सेमेस्टर के मिलाकर लगभग 1 हजार छात्र-छात्राएं शामिल हाेंगे।

परीक्षाओं के पेपर यूनिवर्सिटी की साइट पर एक साथ अपलाेड हाेंगे। छात्राें काे ए- 4 साइज के पेपर की काॅपी बनाकर उसे पर्चा हल कर पांच के दिन भीतर संबंधित काॅलेज में जमा कराना हाेगा। जिले के 11 शासकीय व 17 प्राइवेट काॅलेज है।

परीक्षा फार्म जमा कराने लेट फीस का प्रावधान खत्म
सामान्यतः
परीक्षा फाॅर्म देरी से जमा करने पर लेट फीस का प्रावधान है। मगर काेराेना में छात्र-छात्राओं की परेशानी काे देखते हुए लेट फीस का प्रावधान खत्म कर दिया गया है। हालांकि परीक्षा फाॅर्म पहले ही जमा हाे चुके हैं। अब इनकी परीक्षाएं हाेना बाकी है।

खबरें और भी हैं...