पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सफाई व्यवस्था:नपा के 125 सफाईकर्मी, फिर भी कलेक्टर को नाली में उतरकर करानी पड़ी सफाई

राजगढ़10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • बस स्टैंड पर नाली में गंदगी देख उतरे कलेक्टर और अधिकारी

शहर के बस स्टैंड पर कई वर्षाें से साफ नहीं किए गए 15 साल पुरानी नाली में जमा कचरा और गंदगी पर जब कलेक्टर नीरज कुमार सिंह की नजर पड़ी तो वह खुद सफाई करने उतर गए। कलेक्टर को सफाई करते देख अन्य अधिकारी भी इस नाली में उतरे और सफाई शुरू कर दी। करीब तीस मिनट में सफाई पूरी हुई। इसके बाद नपा के अमले ने इसे पानी से धोकर साफ भी कर दिया। कलेक्टर की इस पहल काे लाेगाें द्वारा सराहा जा रहा है लेकिन बड़ा सवाल यह भी है कि शहर के सभी 15 वार्डो में सफाई करने के लिए 125 से अधिक सफाईकर्मी हैं, इसके बावजूद नियमित सफाई क्याें नहीं हो पा रही है। जबकि शहर की प्राकृतिक बनावट ऐसी है कि यहां ना तो नाली जाम होती है और ना ही सड़क पर गंदगी पसरी रहती है।

मंगलवार सुबह करीब साढ़े 9 बजे को कलेक्टर नीरज कुमार सिंह निरीक्षण के लिए बस स्टैड पहुंचे थे, उनके साथ अधिकारी और जनप्रतिनिधि भी मौजूद थे। तभी यह घटनाक्रम हुआ। कलेक्टर को सफाई करते हुए देख आसपास खड़े डीईओ बीएस बिसोरिया, पीआरआो केपीसिंह दांगी, खेल अधिकारी शर्मिला डाबर सहित अन्य अधिकारियों ने गेंती-फावड़ा व तगारी से कचरे को बाहर निकाला।

इतनी है नपा की सफाई टीम: दो दरोगा, चार मेट, 32 नियमित, 90 से ज्यादा अस्थाई मस्टर सफाई कर्मी

शहर में सफाई व्यवस्था देखने के लिए दाे दरोगा हैं, वहीं 4 मेट कार्यरत है। इसके साथ ही 32 से अधिक नियमित सफाईकर्मी हैं। मस्टर पर काम करने वाले 90 से अधिक सफाई कर्मचारी हैं। इसके बाद भी शहर में आए दिन कई जगह गंदी पसरी रहती है। नतीजा यह रहता है कि हर माह 10 से 20 लोग सफाई व्यवस्था को लेकर सीएम हेल्पलाइन में शिकायत करते है, जिन्हें सफाई करने के बाद भी बड़ी मुश्किल से बंद कराया जाता है। ऐसी स्थिति नियमित सफाई न होने से बनती है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आर्थिक योजनाओं को फलीभूत करने का उचित समय है। पूरे आत्मविश्वास के साथ अपनी क्षमता अनुसार काम करें। भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। विद्यार्थियों की करियर संबंधी किसी समस्...

    और पढ़ें