पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सर्वेक्षण के पहले आकलन:स्वच्छता के स्व-मूल्यांकन में 6000 में से मिले 3015 अंक, पिछले साल से 21 कम

रवि श्रीवास्तव|राजगढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रशासन और नगरपालिका ने लोगों को जागरुक करने स्वच्छता दौड़ कराई। - Dainik Bhaskar
प्रशासन और नगरपालिका ने लोगों को जागरुक करने स्वच्छता दौड़ कराई।
  • नपा ने किया मूल्यांकन, बीते साल सर्वे में मिले थे 3036 अंक
  • नपा ने खुद ही कमियां खोजकर शुरू किए सुधार के प्रयास

स्वच्छता सर्वेक्षण 2020-21 की तैयारियां शुरू हो गई है। जिन चार मानकों पर स्वच्छता सर्वेक्षण होना है, उनको लेकर नगरपालिका ने स्व मूल्यांकन कर अपनी कमियां खोजने का प्रयास किया है। नपा ने सभी मानकों के कुल 6 हजार अंकों के आधार पर सभी पहलुओं की वस्तु स्थिति का आंकलन कर रिपोर्ट तैयार की है।

इसमें नपा को 3015 अंक मिले हैं। यानी हमारा शहर बीते वर्ष की रैंक से भी कमजोर स्थिति की ओर जाता दिख रहा है। बीते वर्ष स्वच्छता सर्वेक्षण के शहर काे 6 हजार में से 3036 नंबर मिले थे। इसके बल पर 25 हजार की आबादी वाले शहरों में हम जिले में पहले नंबर, वेस्ट जोन में 156वें अाैर प्रदेश में 52 वें नंबर पर थे। नपा सीएमओ पवन अवस्थी का कहना है कि इस बार प्रदेश के सबसे स्वच्छ 10 शहरों की सूची में आने के लिए प्रयास कर रहे हैं। इसके बावजूद वर्षभर के प्रयासों के बाद हालिया स्व-मूल्यांकन में नपा की रैंकिंग कमजोर होने से अंदेशा है कि कहीं हम इस बार स्वच्छता की रैंकिंग में पिछड़ न जाएं।

स्वच्छता की राह में रोड़ा बन रही ये समस्याएं

  • कचरा संग्रहण : शहर में कचरा संग्रहण के दौरान सूखा व गीला कचरा अलग-अलग नहीं उठाया जा रहा। वाहनों में सूखा-गीला कचरा इकट्ठे ट्रेंचिंग ग्राउंड में पहुंच रहा है।
  • कचरा वाहन में सूखा-गीला कचरा एक साथ डाला जा रहा: लोग घरों में सूखा-गीला कचरा एक ही डस्टबिन में एकत्र कर रहे हैं। यही वाहन के कॉमन बिन में डाला जा रहा है।
  • ड्रेन सिस्टम और वेस्ट वाटर मैनेजमेंट नहीं: कई बस्तियों में नालियों का पानी सड़कों पर बह रहा है। कुछ जगह पक्की सड़कें न होने से अंक कट रहे हंै। वेस्ट वॉटर मेनेजमेंट न होने से गंदगी नेवज में मिल रही है।
  • गंदगी और कचरे के ढेर: शहर के बीच से गुजरे खरला नाले के आसपास कई जगह गंदगी व कूड़े के ढेर लगे हैं।

टॉप 10 में आने के प्रयास कर रहे
25 हजार से कम आबादी वाले शहरों में पिछले साले जोन में हम 156वें व प्रदेश में 52वें नंबर पर आए थे। इस बार स्व-मूल्यांकन कर कमियों का पता लगाया है। सुधार के लिए कार्ययोजना बनाकर प्रदेश में टॉप 10 शहरों में आने के प्रयास कर रहे हैं। –पवन अवस्थी, सीएमओ नपा राजगढ़।

रैंकिंग सुधारने हो रहे ये प्रयास

  • सूखा-गीला कचरा अलग-अलग करने लोगों को दी जा रही समझाइश
  • ट्रेचिंग ग्राउंड पर कचरा छंटाई
  • कबाड़ से चीजें छांटकर उपकरण बनाना
  • गीले कचरे का अलग से निबटान, इसके लिए 6 अलग-अलग पिट तैयार किए

इन बीस बिंदुओं पर किया स्वच्छता का मूल्यांकन
नपा ने कुल 20 बिंदुओं पर स्व-मूल्यांकन कराया है। इनमें घर-घर कचरा संग्रहण, आबादी क्षेत्रों की सफाई, स्वच्छताकर्मिंयों की सुरक्षा, 50 माइक्रोन से कम वाले पॉलीबैग का उपयोग, गीले व सूखे कचरे का निपटान, सार्वजनिक शौचालयों की स्थिति आदि की स्थिति देखी गई है। इनके कुल 2 हजार नंबरों में से 915 नंबर मिले हैं। वहीं ओडीएफ, वॉटर प्लस, आम लाेगाें की राय आदि के 4 हजार नंबरों में से 2100 तक के मापदंडों पर हम खरे उतरे हैं।

पिछली बार कमियां देखकर किए थे सुधार के प्रयास
नपा ने बीते वर्ष सर्वेक्षण के पहले स्व-मूल्यांकन नहीं किया था, लेकिन कमियां खोजकर सुधार के प्रयास किए थे। इनमें लोगों का जागरुक करने के लिए होर्डिंग लगाए व कम्पोस्ट पिट बनाए थे। लोगों से स्वच्छता एप डाउनलोड कर फीडबैक देने को कहा था।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां पूर्णतः अनुकूल है। सम्मानजनक स्थितियां बनेंगी। विद्यार्थियों को कैरियर संबंधी किसी समस्या का समाधान मिलने से उत्साह में वृद्धि होगी। आप अपनी किसी कमजोरी पर भी विजय हासिल...

    और पढ़ें