गेहूं की बोवनी शुरू, यूरिया की आपूर्ति पर फोकस‎:ब्यावरा पॉइंट पर पहुंचा 3900 टन‎ डीएपी, आज शाजापुर में रैक लगेगी‎

राजगढ़‎23 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
ब्यावरा रैक पॉइंट पर शुक्रवार को माल वाहक ट्रेन से डीएपी खाद उतारते‎ मजदूर। इसे सोसायटी और निजी दुकानों से बेचा जाएगा।‎ - Dainik Bhaskar
ब्यावरा रैक पॉइंट पर शुक्रवार को माल वाहक ट्रेन से डीएपी खाद उतारते‎ मजदूर। इसे सोसायटी और निजी दुकानों से बेचा जाएगा।‎

जिले में अब डीएपी की आपूर्ति होने‎ लगी है। शुक्रवार को मुद्रा पोर्ट से‎ चलकर ब्यावरा के गुना-मक्सी रेल‎ खंड स्थित रैक पॉइंट पर 3900 टन‎ डीएपी खाद पहुंचा। इसे जिले की‎ निजी दुकानों पर 40 प्रतिशत व‎ सहकारी समितियों की दुकानों पर‎ 60 प्रतिशत के अनुपात में बांटा‎ जाएगा। यहां से किसानों को फुटकर‎ में बेचा जाएगा। इसके पहले 2‎नवंबर को पचोर के रेक पॉइंट पर‎ पीपीएल कंपनी का 1400 टन‎ डीएपी आया था।

इसका वितरण‎ दुकानों से किया जा रहा है। इसके‎ अलावा पचोर और ब्यावरा के रेक‎ पॉइंट पर 2 नवंबर को ही क्रमश:‎ 3000 व 1500 टन यूरिया का भी‎ स्टॉक मिला है। रबी में गेहूं की‎ फसल के लिए यूरिया की आपूर्ति में‎ ये दोनों रैक सहायक होंगी। 20‎ अक्टूबर के बाद डीएपी की दूसरी‎ रेक जिले में आई है। समितियों में‎ डीएपी का स्टॉक पिछले सप्ताह ही‎ खत्म हो गया था।

यूरिया की आपूर्ति पर अब‎ हमारा पूरा फोकस‎

  • बीते साल की तुलना में ज्यादा‎ खाद जिले में आ चुका है। इससे‎ किसानों की जरूरतें पूरी हुई हैं। गेहूं‎ की बोवनी शुरू होने से अब यूरिया‎ की आपूर्ति पर फोकस करेंगे।‎ डीएपी भी अब हमारे पास पर्याप्त‎ है। - संजय गीते, जिला विपणन‎ अधिकारी, राजगढ़।‎

आज शाजापुर आएगा‎ 3000 टन डीएपी‎
नजदीकी जिले शाजापुर के रेक‎ पॉइंट पर शनिवार को 3000 टन‎ डीएपी आने की संभावना है। जिला‎ विपणन अधिकारी संजय गीते के‎ अनुसार जिले के ब्यावरा और‎ पचोर में रेक लगने के बाद‎ फिलहाल बहुत ज्यादा डीएपी की‎ मांग नहीं है, क्योंकि एनपीके खाद‎ का उपयोग कर किसानों ने बोवनी‎ की है। फिर भी जरूरत होने पर‎ सारंगपुर और पचोर में शाजापुर के‎ रेक पॉइंट से आपूर्ति कराएंगे।‎

खबरें और भी हैं...