पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Rajgarh
  • 40% Of Soybean Kept In The Fields Wasted, Now Fear Of Rot And Germination. The Crop Harvested In The Water Filled In The Fields, The Harvesting Work Was Going On For The Last 10 Days, The Monsoon Took A Break While Leaving.

नुकसान:खेतों में कटी रखी 40% सोयाबीन खराब, अब सड़न अाैर अंकुरण का डर. खेतों में भरे पानी में बही फसल, पिछले 10 दिनाें से जारी था फसल कटाई का कार्य, विदा लेते मानसून ने लगाया ब्रेक

राजगढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

खरीफ सीजन की फसलें पककर तैयार है और जिले में कटाई का काम शुरू हो गया है। इधर, विदा लेते मानसून ने किसानाें की उम्मीदाें पर पानी फेर दिया है। पिछले दो दिनों से जिलेभर में तेज बारिश हो रही है। इसके चलते काटकर रखी फसल बारिश के पानी में उतरा रही है, कही-कहीं ताे फसल बह तक गई है। अब खेतों में पानी भरा होने के चलते सोयाबीन सहित मक्का व अन्य फसलों में अंकुरण और सड़ने का खतरा पैदा हाे गया है। इस साल 4.25 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में खरीफ की फसलाें की बाेवनी की गई है। इसमें से साढ़े तीन लाख हेक्टेयर से अधिक क्षेत्र में सोयाबीन की फसल बाेई गई है। बाकि रकबे में मक्का, तिल, उड़द सहित अन्य फसलें बाेई गई हैं। अब इन सभी फसलों की फसल कटाई शुरू हो गई है। कृषि उपसंचालक हरीश मालवीय ने बताया कि जिलेभर में करीब 30 से 40 प्रतिशत खेतों में इस समय सोयाबीन की फसल काटकर खेतों में रखी हैं। ऐसे में पिछले दो दिनों से हो रही बारिश से नई आफत खड़ी कर दी। खेतों में कटी पड़ी सोयाबीन फसल पानी में उतराने के साथ ही बारिश के साथ बह गई। ऐसे में पानी के चलते सोयाबीन में सड़न के साथ ही अंकुरण की समस्या आने की आशंका है।

नमी के चलते फसल कटाई रुकी
10 दिनाें से जारी फसल कटाई का कार्य दो दिनों से बारिश से रुक गया है। किसान रामरतन, हरिसिंह सौंधिया, कमल, रमेशचंद्र ने बताया कि खेतों में पैर धंस रहे है। पानी व कीचड़ के चलते खेतों में घुसना मुश्किल है। ऐसे में फसल कटाई करना तो दूर जो फसल कटी पड़ी है। उसे इकट्ठा करना भी मुश्किल हो रहा है। वहीं खेतों में नमी व कीचड़ के चलते ट्रैक्टर व अन्य कृषि उपकरण भी अंदर नहीं ले जा पा रहे है। इससे कटी फसल का परिवहन भी किसान नहीं कर सकते।

जिले में औसत से कम बारिश, लेकिन ब्यावरा व नरसिंहगढ़ का कोटा पूरा
जिले की औसत बारिश 110 सेमी है। इस मानसून सीजन में यह कोटा पूरा नहीं हुआ है। ब्यावरा व नरसिंहगढ़ तहसील में जरूर औसत से ज्यादा बारिश हाे चुकी है। नरसिंहगढ़ में 121 व ब्यावरा में 140 सेमी बारिश हुई है। जबकि सबसे कम बारिश खिलचीपु में 74 सेमी हुई है। वहीं पिछले 24 घंटे में जिलेभर में औसत बारिश 3.7 सेमी हुई है। इसके चलते अधिकांश नदी नालों में पानी आ गया है। वहीं खेतों में भी बारिश का पानी भर गया है। वहीं कई रास्ते भी अवरुद्ध हुए है।

बारिश से अब अंकुरण व फसल सड़ने का है डर
खेतों में कटी सोयाबीन में सड़न के साथ ही अंकुरण की समस्या है। मक्का भी भुट्‌टे में ही अंकुरित होने लगी है। वहीं तिल की फसल काली पड़ गई। उड़द व मूंग की फसल में भी सड़न हाेने लगी है। वहीं जो सोयाबीन खेताें में खड़ी है। उसकी फली भी बारिश के बाद निकलने वाली धूप से तड़ककर फूट रही है। इसके चलते सोयाबीन का दाना भी किसानों के हाथ से जा रहा है।
अब आगे क्या: अगले दो-तीन दिन और हैं ऐसी बारिश के आसार
विदाई ले रहा मानसून जाते-जाते फसलों के लिए नुकसान पहुंचा रहा है। मौसम विभाग के अनुसार अगले दो से तीन दिन और इसी तरह बारिश के आसार रहेंगे। मौसम विभाग के विशेषज्ञों का कहना है कि जिस प्रकार का सिस्टम बन रहा है उससे संभावना है कि अगले दो-तीन दिन कहीं-कहीं तेज और हलकी बारिश हो सकती है। कृषि विशेषज्ञों का कहना है कि यदि अब आगे बारिश होती है तो नुकसान का आंकड़ा बढ़ जाएगा। ऐसे में भीगी फसल तेजी से खराब होती और खड़ी फसल की फलियों के दाने बिखरने की आशंका रहेगी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज किसी समाज सेवी संस्था अथवा किसी प्रिय मित्र की सहायता में समय व्यतीत होगा। धार्मिक तथा आध्यात्मिक कामों में भी आपकी रुचि रहेगी। युवा वर्ग अपनी मेहनत के अनुरूप शुभ परिणाम हासिल करेंगे। तथा ...

और पढ़ें