पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

पर्यावरण मंत्रालय की गाइडलाइन:फोरलेन बनाकर राेपने हैं 63050 पौधे, पर लगा रहे सिर्फ 20 हजार

राजगढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

511 करोड़ रुपए की लागत से किए जा रहे ब्यावरा-भोपाल फोरलेन नेशनल हाईवे के चौड़ीकरण के लिए काटे गए हरे भरे पेड़ों के एवज में पौैधे लगाए की बजाए पर्यावरण मंत्रालय की गाइड लाइन का उल्लंघन किया जा रहा है। गाइड लाइन के तहत फोरलेन हाइवे निर्माण के बाद इसके दाेनाें ओर प्रति किमी में 650 यानि 97 किमी लंबे इस हाईवे पर 63050 पौधे रोपने थे। इसके बावजूद कंपनी प्रति किमी में महज 200 और पूरे हाईवे पर 97 किमी में 20 हजार पौधे ही रोप रही है। वह भी जगह नहीं मिलने की स्थिति पर इनकी संख्या और भी कम की जा सकती है। वहीं कंपनी डिवाइडर के फूलदार पौधे तक पेड़ों के बदले में रोपना गिना रही है। एनएएचआई (नेशनल हाईवे अथॉरिटी आफ इंडिया) द्वारा दिल्ली की कंपनी सीडीएस प्राइवेट लिमिटेड कंपनी से 511 करोड़ 88 लाख रुपए की लागत से ब्यावरा से भोपाल बायपास तक 97 किमी लंबे फोरलेन हाईवे का निर्माण कराया जा रहा है। हाईवे के निर्माण के दौरान सड़क चौड़ीकरण के लिए कंपनी ने 97 किमी में 6 हजार हरे भरे पेड़ों को कटवा दिया था। मुरम और बोल्डर की बजाए काली मिट्‌टी से बना रहे शाेल्डर: फोरलेन हाईवे के शाेल्डर मुरम और बोल्डर की बजाए सड़क किनारे से ही खोदकर काली मिट्‌टी से बनाए रहे हैं। ऐसे में आने वाले समय में शाेल्डर खराब हाेने अाैर इसमें बारिश के दिनों में वाहनों के पहिए फिसलने की आशंकाएं हो जाएगी। जबकि पुरानी रोड को उखाड़कर उस पर डामर बिछाया है।

बोगन बेलिया के पौधे तक गिना रही निर्माण कंपनी
निर्माण कंपनी पौधरोपण का आंकड़ा पूरा करने के लिए 97 किमी लंबे इस फोरलेन हाईवे पर डिवाइडर के बीच में रोपे जा रहे बोगन बेलिया के पौधे तक गिनती में ले रहा है। सीडीएस के प्रोजेक्ट मैनेजर का कहना है कि, हम पूरे हाईवे पर 97 किमी में 20 हजार पौधे रोप रहे हैं जिनमें से अभी तक करीब 4 हजार पौधे रोपे भी जा चुके हैं। उन्होंने बताया कि डिवाइडर के बीच में बोगन बेलिया सहित अन्य फूलदार पौधे लगाए जा रहे हैं, ताकि हाईवे हरा भरा नजर आए।

ये है गाइडलाइन: जितने भी पेड़ काटे थे उसके 10 गुना रोपने थे: पर्यावरण मंत्रालय की गाइडलाइन के तहत किसी भी हाईवे के निर्माण में जितने भी पेड़ काटे जाते हैं उसके 10 गुना दूसरे पौधे हाईवे के दोनों तरफ रोपने की सशर्त पर ही इजाजत दी जाती है। गाइड लाइन के तहत प्रति किमी में कम से कम 650 पौधे तो रोपना ही है। जिनकी दूरी प्रति पेड़ 10 से 15 मीटर तक रखना होती है, इसी शर्त के आधार पर विभाग पेड़ काटकर सड़क बनाने की अनुमति देता है।

^पूरे हाईवे पर 6 हजार पेड़ काटे थे, पर्यावरण की गाइड लाइन के तहत जितने भी पेड़ काटे थे उनके 10गुना पौधे लगाना है। प्रति किमी में न्यूनतम 650 पौधे रोपने हैं। काम चालू करा दिया है, यदि कम लग रहे हैं तो हम और बढ़वाएंगे। एमएस पुरोहिया, पीडी एनएचएआई भोपाल ^हमने पूरे हाईवे पर 20 हजार पौधे रोपने का लक्ष्य लिया है, जिसमें से प्रारंभिक चरण में 4 हजार लगा रहे हैं। इसमें डिवाइडर के पौधे भी शामिल है। एसएस झा, प्रोजेक्ट हेड सीडीएस प्रा लि दिल्ली

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज उन्नति से संबंधित शुभ समाचार की प्राप्ति होगी। धार्मिक और आध्यात्मिक कार्यों में भी कुछ समय व्यतीत होगा। किसी विशेष समाज सुधारक का सानिध्य आपके अंदर सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करेगा। बच्चे त...

और पढ़ें