पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

काेराेना के कहर:सारंगपुर के कोरोना संक्रमित युवक को इंदौर में आठ अस्पतालाें में नहीं मिला इलाज, मौत

राजगढ़3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिले के तीन लोगों की कोरोना से मौत, ब्यावरा-सारंगपुर में आज से नाइट कर्फ्यू

काेराेना के कहर से जिले के तीन लाेगाें की माैत के मामले सामने आए हैं। मंगलवार को 21 नए संक्रमित मिले हैं। इसके बाद प्रशासन ने सारंगपुर और ब्यावरा में संक्रमण की दर ज्यादा होेने के कारण रात का कर्फ्यू लगा दिया है। उधर ब्राह्मण गांव निवासी 25 वर्षीय युवक की इंदौर में समुचित इलाज नहीं मिलने से मौत हो गई। परिजन व दोस्त युवक काे लेकर 48 घंटे में आठ अस्पतालाें में गए, लेकिन ब्रेन में जमे खून के थक्के हटाने के लिए उसकी सर्जरी नहीं हो सकी, आखिर में उसने मंगलवार सुबह 9 बजे अंतिम सांस ली। इसके बाद मृतक के शव को ब्राह्णमगांव लेकर आए, जहां उसका दोपहर बाद अंतिम संस्कार किया गया। वहीं सारंगपुर में भी व्यवसायी की कोरोना संक्रमण के चलते इंदौर में इलाज के दौरान मौत हुई है। इसके अलावा तीन दिन पहले मृत एक महिला की रिपाेर्ट भी पाॅजिटिव आई है।

इंदौर में पीएससी की तैयारी कर रहा ब्राह्मणगांव निवासी गिरीराज दांगी पुत्र गोकुल राठौर 22 मार्च को संक्रमित हुआ। वह घर रहकर ही इलाज करा रहा था। 27 मार्च काे चक्कर आने के बाद सुबह 8.30 बजे दोस्त और पड़ोसी उसके केसरबाग कॉलोनी के रूम पर पहुंचे। जहां वह बाथरूम में पड़ा मिला। इसे बाद दोस्त, पड़ोसी और परिजन अस्पतालों में ले गए पर इलाज नहीं मिल सका।

रात का कर्फ्यू क्योंकि यहीं मरीज ज्यादा
ब्यावरा और सारंगपुर नगर में काेराेना संक्रमितों की संख्या में बढ़ोतरी देख कलेक्टर नीरज कुमार सिंह ने रात्रिकालीन कर्फ्यू लगा दिया है। कलेक्टर ने धारा 144 के तहत ब्यावरा एवं सारंगपुर में रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक कर्फ्यू लागू किया है।

तीन दिन पहले जिस महिला की मौत हुई थी वह भी पॉजिटिव निकली
जिले में मंगलवार को कोरोना के 21 नए संक्रमित मिले हैं। अब तक मिले संक्रमितों की संख्या बढ़कर 2703 पर पहुंच गई है। माैत के मामले भी 71 हो गए हैं। तीन दिन पहले जिला अस्पताल के मेडिकल वार्ड में कुलीखेड़ा की 70 वर्षीय महिला की मौत हुई थी, जिसकी मंगलवार को कोरोना जांच पॉजिटिव आई है। महामारी नियंत्रक अधिकारी डॉ महेंद्र सिंह ने बताया कि जिले में वर्तमान में 149 एक्टिव केस हैं। इसमें से 13 लोग कोरोना आईसीयू में भर्ती है।

सारंगपुर में पान व्यवसायी की मौत
सारंगपुर निवासी 57 वर्षीय जमनालाल पुष्पद उर्फ चमन दादा को 13 मार्च से बुखार आने पर 15 मार्च को शाजापुर में भर्ती कराया। सांस की तकलीफ के चलते इन्हे 17 मार्च को इंदौर के विशेष अस्पताल में भर्ती कराया था। जहां कोरोना संक्रमण की पुष्टि होने के बाद जमनालाल को वेंटिलेटर पर रखा गया। मंगलवार सुबह 9 बजे उन्हाेंने अंतिम सांस ली। पांच दिन पहले सारंगपुर में माखन पुष्पद की मौत भी इंदाैर इलाज के दौरान हो चुकी है।

महिला जज, पति-बेटी संक्रमित
सारंगपुर में दो अलग-अलग वार्ड में 10 कोरोना संक्रमित मिले हैं। दोपहर 12 बजे तक आई रिपोर्ट में वार्ड चार के एक ही परिवार की दो महिला, तीन पुरूष और 9 साल का बालक संक्रमित मिला। इसके बाद दोपहर बाई आई रिपोर्ट में वार्ड 16 में महिला जज सहित पति व 13 साल की बेटी संक्रमित मिली है।

फर्स्ट पर्सन: कहीं बेड नहीं मिला तो किसी ने सर्जरी से इंकार किया
गिरीराज ने एक दिन पहले चक्कर आने की बात कही थी। 28 मार्च की सुबह जब उसने फोन नहीं उठाया तो हम उसके घर पहुंचे।वह बाथरूम में पड़ा मिला। उसे आदित्य अस्पताल लेकर गए, जहां सीटी स्कैन के बाद उसे दूसरे अस्पताल ले जाने काे कहा गया। रास्ते में उसे झटके आ रहे थे, हम अरिहंत अस्पताल पहुंचे पर पलंग न हाेने से चौइथराम ले जाना पड़ा। जांचें देखने के बाद यहां भी मना कर दिया तो हम उसे अरविंदो अस्पताल लेकर गए, लेकिन यहां भी बेड नहीं मिला तो बॉम्बे अस्पताल में एमआरआई सहित अन्य जांचें करने के बाद डाक्टरों ने कहा कि फेफड़े 50 प्रतिशत काम कर रहे हैं, खून के क्लाॅट जमे हैं और इंफेक्शन है। ब्रेन सर्जरी आवश्यक है, पर हमारे पास पलंग नहीं है।

नोबल अस्पताल में न्यूरो सर्जन ने बताया कि केस क्रिटिकल है, सर्जरी तभी होगी जब सारी फेसिलिटी मिलेगी, उसमें भी एक प्रतिशत चांस है। हम रात 12 बजे गिरीराज को दोबारा अरविंदो लेकर गए, पर बेड नहीं मिला फिर 4 बजे उसे एमवाय अस्पताल में भर्ती किया जहां सुबह 9 बजे अंतिम सांस ली। -जैसा की मृतक के दोस्त दुर्गाप्रसाद दांगी ने भास्कर को बताया।

खबरें और भी हैं...