गेहूं के लिए फायदेमंद एमपी के राजगढ़ में:राजगढ़ में छाया घना कोहरा लोगों ने लाइट जलाकर गाड़ी ड्राइव की,न्यूनतम पारा 7 डिग्री पर

राजगढ़5 महीने पहले
राजगढ़ में आज सुबह से ही अलाव जलाकर बैठे लोग

शीतलहर और घने कोहरे की वजह से ठंड बढ़ गई है। रविवार को राजगढ़ में शीतलहर के साथ घना कोहरा छाया रहा। घने कोहरे की वजह से सुबह वाहन चालकों को लाइट जलाकर गाड़ी ड्राइव करना पड़ी। ओस की वजह से ऐसा प्रतीत हुआ, जैसे पानी की फुहारें गिरी हुई हों, क्योंकि सुबह-सुबह खेत पूरी तरह से गिले थे और फसलों पर पानी की बूंदें नजर आ रही थीं। यह माैसम गेहूं के लिए काफी फायदेमंद माना जा रहा है। मौसम विशेषज्ञों का कहना है कि सर्द हवाओं की वजह से तापमान में भी गिरावट जारी रहेगी। सुबह न्यूनतम तापमान 9 डिग्री दर्ज किया गया। शीतलहर की वजह से जिले में जनजीवन काफी प्रभावित हुआ है। ठंड से बचने के लिए लोगों ने जगह-जगह अलाव का सहारा लिया। गेहूं की फसल के‎ मौसम अनुकूल मौसम गेहूं की फसल के‎ अनुकूल माना जा रहा है। इससे‎ पहले जनवरी महीने के पहले पखवाड़े‎ में साल 2017 में 13 जनवरी को‎ 3.2 डिग्री व साल 2020 में 11‎ जनवरी को 4.6 डिग्री तापमान‎ रिकॉर्ड किया गया था। 2022 के जनवरी के पहले पखवाड़े‎ में 12 जनवरी को न्यूनतम पारा 6‎ ‎ डिग्री के न्यूनतम स्तर पर दर्ज किया‎ गया है। कृषि विज्ञानी डॉ. लाल सिंह‎ के अनुसार इस बार अब तक‎ फसलों पर पाला गिरने के हालात‎ नहीं बने हैं। पहले के सालों के‎ अनुभवों के आधार पर ये भी देखा‎ गया है कि दिसंबर के अंत व जनवरी‎ के पहले पखवाड़े में पाला गिरने‎ के आसार रहते हैं। इस बार ये समय‎ गुजर चुका है। ऐसे में फसलों के‎ लिए अब मौसम अनुकूल बना हुआ‎ है। खासकर गेहूं की फसल के‎ विकास में रात में गिरने वाली ओस‎ फायदेमंद रहेगी।‎ ‎