पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

खरीफ की बोवनी:70 प्रतिशत से कम अंकुरण वाले सोयाबीन के बीज की बोवनी न करें

राजगढ़16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • खरीफ की बोवनी के लिए सावधानियां बताईं

खरीफ सीजन की बोवनी का क्रम शुरू होने से पहले कृषि विभाग ने किसानों को बोवनी से पूर्व जरूरी सावधानियां बरतने को कहा है। जिले में प्री मानसून की बारिश का दौर शुरू होने के साथ ही अब किसानों ने खरीफ की बोवनी की तैयारी शुरू कर दी है।

कृषि विभाग द्वारा जारी सलाह के अनुसार सोयाबीन को बोने से पहले अंकुरण परीक्षण कर लेना चाहिए। 70 से कम अंकुरण प्रतिशत वाले सोयाबीन को बोने के काम में नहीं ले। विभाग ने कहा कि 3 से 4 इंच बारिश होने के बाद ही बोवनी करना चाहिए।

ऐसे करें अतंरवर्ती फसलों की बोवनी
अतंरवर्ती फसलों की बोवनी करें। जिसमें सोयाबीन की 4 लाइन के बाद 2 लाइन ज्वार, मक्का या अरहर की लें। खेत में जल निकासी की उचित व्यवस्था करें , फसलों में पानी भरा नहीं रहने दें। फसल की प्रारंभिक अवस्था में कीट नियंत्रण हेतु फेरामेन ट्रेप, प्रकाश प्रपंच या नीम आईल का उपयोग करें। खरपतवार नाशी एवं कीटनाशी को आपस में नहीं मिलाएं। सोयााबीन की बुआई का उचित समय 25 जून से 7 जुलाई तक होता है।

खबरें और भी हैं...