पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Rajgarh
  • Doctors Treating Corona Infected Have Their Own Samples Given 2 To 3 Times, Screened For Three Months Without Taking Leave In The Midst Of Danger

कोरोना का कहर :कोरोना संक्रमितों का इलाज कर रहे डॉक्टरों ने 2 से 3 बार खुद के सैंपल दिए स्क्रीनिंग कराई, खतरे के बीच बिना अवकाश लिए तीन माह से कर रहे ड्यूटी

राजगढ15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • आज डॉक्टर्स डे है। डॉक्टर्स को धरती का भगवान कहा गया है
Advertisement
Advertisement

आज डॉक्टर्स डे है। डॉक्टर्स को धरती का भगवान कहा गया है, कोरोना काल में यह बात स्पष्ट रूप से उभरकर सामने आई है। हमारे जिले में भी डॉक्टर कोरोना के खतरे को झेलते हुए पिछले तीन माह से बिना अवकाश लिये 18 से 20 घंटे ड्यूटी कर रहे हैं। इन डॉक्टरों की मेहनत का ही परिणाम है कि वर्तमान में हमारे जिले में कोरोना के मरीजों के ठीक होने का आंकड़ा 50: 50 पर पहुंच गया है। कोरोना की इस जंग में हमारे डॉक्टर संक्रमण के सबसे ज्यादा खतरे के बीच काम कर रहे हैं। तभी तो इस कोरोना काल में एहतियात के तौर पर डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ ने अपनी जांच एक से अधिक बार कराई और इस खतरे के बीच अभी भी संक्रमित मरीजों को ठीक करने में जुटे हुए हैं।
जिला चिकित्सालय में पदस्थ एमडी मेडिसिन डॉ सुधीर कलावत कोरोना के संक्रमण की आशंका के चलते अपनी स्वयं की तीन बार सैंपल देकर जांच करा चुके हैं, अच्छी बात यह है कि तीनों बार रिपोर्ट निगेटिव आई है। जिला महामारी अधिकारी महेंद्र पाल सिंह ने भी दो बार जांच कराई, दोनों बार रिपोर्ट निगेटिव आई। पचोर के डॉक्टर डॉ देवांग शर्मा, आई अंसारी तीन-तीन बार खुद की स्क्रीनिंग करा चुके हैं। कोरोना काल में आखिर किन चुनौतियों के बीच यह डॉक्टर किस प्रकार अपनी ड्यूटी कर रहे हैं, जानते हैं उनकी ही जुबानी...।
अब तक 55 मरीज ठीक कर चुके, 18 से 20 घंटे ड्यूटी की
एमडी मेडिसिन डॉ कलावत जिला चिकित्सालय के आइसोलेशन वार्ड के प्रभारी हैं। वे अभी तक 55 से ज्यादा कोरोना मरीजों को ठीक कर चुके हैं। जब से कोरोना काल शुरू हुआ है तब से अभी तक अवकाश नहीं लिया है। 18 से 20 घंटे ड्यूटी कर रहे हैैं।

टीम भावना से काम कर कोरोना की चेन को तोड़ा डाॅ देवांग ने
चिकित्साधिकारी स्वास्थ्य केंद्र पचोर डॉ देवांग शर्मा कोरोना कॉल में 16 से 18 घण्टे तक काम किया, जहां से जब सूचना मिली अपनी टीम के साथ वह पहुंचे। न केवल पचोर बल्कि आसपास के गांवों में भी समय पर पहुंचे और स्क्रीनिंग की। डॉ शर्मा बताते हैं कि 15 जून से कोरोना सैंपल हमारी टीम द्वारा लेना शुरू किया। हमने टीम मैनेजमेंट से काम किया। कोई समय तय नहीं था रात को कब जाना है। 12 से 25 जून के मध्य नगर में 20 पॉजिटिव मिलने के बाद जवाबदेही बढ़ गयी थी, हमारी टीम ने कोरोना की चेन तोड़ दी।

जिलेभर की रिपोर्ट तैयार करने की जिम्मेदारी है डॉक्टर महेद्र पर
जिला महामारी अधिकारी डॉ महेंद्र ने भी जब से कोरोना काल शुरू हुआ है तब से अब तक अवकाश नहीं लिया है। कहां कितने मरीज मिले, कितनी स्क्रीनिंग हुई, कौन हिस्सा कंटेनमेंट है, ऐसे कई बिंदुओं की जानकारी रखना, फील्ड पर उपस्थित होना और कोरोना की रिपोर्ट ऊपर भेजना, यह सब करने के लिए वे दिन-रात काम करते हैं। 

विपरीत परिस्थिति में भी नहीं मानी हार: डाॅ अंसारी
आयुष चिकित्सक डॉ आई अंसारी बताते हैं कि तमाम विपरीत परिस्थितियों के बाद भी हमने अपनी टीम के साथ काम किया। लॉकडाउन के दौरान कोरोना संदिग्ध होने की परिस्थितियों में पिता की मौत, परिवार में सबसे बड़े होने की जिम्मेदारी भी थी। बाद में पिता की रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद भी 14 दिन खुद को क्वारेंटाइन रखा। इन परिस्थितियों में सब हमारे साथ खड़े रहे।

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज का दिन पारिवारिक और आर्थिक दोनों दृष्टि से शुभ फलदायी है। व्यक्तिगत कार्यों में सफलता मिलने से मानसिक शांति का अनुभव करेंगे। कठिन से कठिन कार्य को आप अपने दृढ़ निश्चय से पूरा करने की क्षमत...

और पढ़ें

Advertisement