पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

महामारी ने किया तबाह:19 दिन में भारतीय परिवार के चार सदस्यों ने छोड़ी दुनिया, तीन ने कोरोना से तोड़ा दम

राजगढ़8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • हंसते-खेलते परिवार में अब केवल 5 महिलाएं व तीन बच्चे बचे

यूं तो जिले में कई परिवार ऐसे हैं, जिन्होंने कोरोना महामारी के दौरान एक से अधिक सदस्य को खोया है, लेकिन नरसिंहगढ़ का भारतीय परिवार ऐसा है, जहां एक-दो नहीं चार लोगों की एक के बाद एक मौत हुई है। अब परिवार में कमाने वाले पुरुष भी नहीं बचे हैं। हालात यह है कि नरसिंहगढ़ में एक परिवार को कोरोना का ऐसा ग्रहण लगा कि 19 दिनों में परिवार के चार प्रमुख सदस्यों ने एक-एक कर दम तोड़ दिया। इनमें 3 ने कोरोना से और एक ने रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद भी दम तोड़ दिया। इनमें भी मां-बेटे ने एक ही दिन सुबह शाम के समय दुनिया से विदाई ली। एक हंसता- खेलता परिवार अब सिर्फ आंसुओं में डूबा हुआ है। परिवार में अब 3 बहनें, 2 विधवा बहुएं और 3 बच्चे रह गए हैं। बताया जाता है कि भारतीय परिवार के मुखिया स्व. कामरेड रामचंद्र भारतीय की पांच साल पहले मौत हुई है। यह श्रमिक नेता थे और कम्युनिस्ट विचार धारा रखते थे। इसके चलते इन्होंने स्वर्णकार सरनेम हटाकर भारतीय रखा था। इस दौरान 1970 के आसपास वह नगर पालिका अध्यक्ष रहे। परिवार के दो बेटों और चार बेटियों ने भी पिता के भारतीय सरनेम को अपनाया। आपको बता दें कि भारतीय परिवार की तरह ही कोरोना के चलते जीरापुर, सारंगपुर और पचोर में भी है, जहां एक ही परिवार के दो-दो सदस्याें की मौत हुई है। यहां परिवार के मुख्य सदस्य कोरोना के आगे जंग हार गए और परिवार को इस संक्रमण के बीच छोड़कर चले गए।

19 दिन पहले बहन ने तोड़ा दम, अब 24 घंटे में तीन की मौत: भारतीय परिवार में इस संकट की शुरुआत 16 अप्रैल को परिवार की प्रमुख सदस्य शासकीय पीजी कॉलेज की प्राचार्य डॉ. प्रमोद भारतीय की भोपाल में कोरोना से मौत के साथ हुई। उन्हें 8 अप्रैल को इलाज के लिए ले जाया गया था। उनकी देखरेख के लिए उनके छोटे भाई शासकीय हाई स्कूल बड़ोदिया तालाब के प्राचार्य राजेश भारतीय और उनकी पत्नी रश्मि भारतीय साथ में थे। डॉ. प्रमोद भारतीय की मौत के बाद बुरी तरह से टूट चुके राजेश भारतीय भी कोरोना संक्रमित हो गए। कुछ समय उनका स्थानीय स्तर पर इलाज किया गया, बाद में उन्हें भी भोपाल शिफ्ट कर दिया गया।

इसी दौरान अचानक उनके बड़े भाई सर्राफा व्यवसायी सुनील भारतीय की तबीयत बिगड़ी तो उन्हें भी भोपाल ले जाया गया, जहां 3 मई की सुबह उनका निधन हो गया। हालांकि उनकी कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव थी। इसी बीच उनकी मां गायत्री देवी का भी ऑक्सीजन लेवल कम हो गया था और कोरोना रिपोर्ट भी पॉजिटिव थी, जिनका इलाज चल रहा था। शाम को घर में उनकी भी मौत हो गई। दूसरे दिन 4 मई की सुबह गायत्री देवी की अंत्येष्टि के तुरंत बाद भोपाल से राजेश भारतीय के निधन की खबर आ गई।

27 दिनों से कोरोना परिजनों की सेवा में लगी बहू की भी हालत खराब दिवंगत राजेश भारतीय की पत्नी रश्मि भारतीय 8 अप्रैल से ही अपने कोरोना संक्रमित परिजनों की सेवा में लगी हैं। लगातार परिवार में हो रही मौतों ने उन्हें शारीरिक और मानसिक रूप से तोड़ दिया है। अभी उनका भी भोपाल में इलाज चल रहा है।

पचोर के गर्ग परिवार पर भी संकट

बेटे की 13वीं के दिन मां ने भी छोड़ी दुनिया, इसके बाद चाचा की मौत भारतीय परिवार की तरह की पचोर के गर्ग परिवार पर भी कोरोना ने कहर बरपाया है। पचोर के सीए प्रभात गर्ग की 5 अप्रैल को कोरोना के चलते इलाज के दाैरान इंदाैर में मौत हुई थी। इसके बाद प्रभात की 13वीं के दिन मां प्रेमबाई ने शुजालपुर में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया था। वहीं चाचा मोहनलाल गर्ग ने 22 अप्रैल को राजगढ़ में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। इसी तरह जीरापुर शिक्षक अशोक व्यास की कोराेना के चलते 22 अप्रैल को झालावाड़ में इलाज के दौरान मौत हो गई थी। इसके बाद छोटे भाई संजय ने भी 27 अप्रैल को इलाज के दौरान उज्जैन में दम तोड़ दिया। ऐसे ही कोरोना के चलते रेखा गुप्ता पत्नी दिनेश गुप्ता की 23 अप्रैल को मौत हुई, वहीं पति दिनेश ने 4 मई को कोरोना के चलते अंतिम सांस ली।

पचोर के गर्ग परिवार पर भी संकट

बेटे की 13वीं के दिन मां ने भी छोड़ी दुनिया, इसके बाद चाचा की मौत भारतीय परिवार की तरह की पचोर के गर्ग परिवार पर भी कोरोना ने कहर बरपाया है। पचोर के सीए प्रभात गर्ग की 5 अप्रैल को कोरोना के चलते इलाज के दाैरान इंदाैर में मौत हुई थी। इसके बाद प्रभात की 13वीं के दिन मां प्रेमबाई ने शुजालपुर में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया था। वहीं चाचा मोहनलाल गर्ग ने 22 अप्रैल को राजगढ़ में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। इसी तरह जीरापुर शिक्षक अशोक व्यास की कोराेना के चलते 22 अप्रैल को झालावाड़ में इलाज के दौरान मौत हो गई थी। इसके बाद छोटे भाई संजय ने भी 27 अप्रैल को इलाज के दौरान उज्जैन में दम तोड़ दिया। ऐसे ही कोरोना के चलते रेखा गुप्ता पत्नी दिनेश गुप्ता की 23 अप्रैल को मौत हुई, वहीं पति दिनेश ने 4 मई को कोरोना के चलते अंतिम सांस ली।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आज की स्थिति कुछ अनुकूल रहेगी। संतान से संबंधित कोई शुभ सूचना मिलने से मन प्रसन्न रहेगा। धार्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत करने से मानसिक शांति भी बनी रहेगी। नेगेटिव- धन संबंधी किसी भी प्रक...

    और पढ़ें