पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ज्योतिष:शुक्र ग्रह भाग्य और वैभव तो गुरु आमदनी बढ़ाएगा

राजगढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सूर्य को ज्योतिष शास्त्र में आत्मा, मान-सम्मान, यश आदि का कारण माना जाता है

मई माह में चार प्रमुख ग्रहों का राशि परिवर्तन हो रहा है। मंगलवार को शुक्र का वृषभ राशि में गोचर हुआ। जबकि शनिवार को बुद्धि, वाणी आदि का कारण बुध ग्रह अपना घर बदल चुका है। इसी माह में सूर्य और गुरु का भी राशि परिवर्तन होगा। बुध और शुक्र के साथ सूर्य भी वृषभ राशि में परिवर्तन करेंगे।

बृहस्पति कुंभ राशि में गोचर करेंगे। बुध व शुक्र का इसी माह में दो बार राशि परिवर्तन होगा। बुध एक बार फिर 26 मई को राशि बदलेंगे। वृषभ से निकल कर मिथुन राशि में चले जाएंगे। ग्रहों के इन परिवर्तनों का असर सभी 12 राशियों पर सीधे तौर पर देखने को मिलेगा।

ज्योतिषाचार्य पं. राधारमण त्रिपाठी ने बताया कि मंगलवार दोपहर 1.09 बजे शुक्र का वृषभ राशि में गोचर हो गया है। 28 मई सुबह 11.44 बजे तक इसी राशि में रहेंगे। इसके बाद यह मिथुन राशि में प्रवेश कर जाएगा। शुक्र के राशि परिवर्तन से वृषभ राशि के जातकों पर ज्यादा असर पड़ेगा। वृषभ राशि का स्वामित्व शुक्र के ही पास है। इस परिवर्तन के चलते वृषभ राशि वालों को आर्थिक लाभ की संभावना है। शुक्र ग्रह को भाग्य, वैभव, ऐश्वर्य का कारक माना जाता है।

रमजान: तीसरा अशरा शुरू, एतकाफ में बैठकर मांगेंगे दुआ, चांद दिखाई देने पर 13 या 14 को मनाएंगे ईद: रमजान को तीन अशरे में बांटा गया है। पहला व दूसरा अशरा पूरा हो गया। तीसरा अशरा शुरू होने के साथ मसजिदों में नमाजी एतकाफ के लिए बैठ गए हैं। वे अब चांद रात तक मसजिद में रहकर अल्लाह की इबादत करेंगे। शहर काजी बताते हैं कि पांच रातों में से एक रात शब-ए-कद्र भी आएगी। चांद दिखाई देने पर 13 या 14 मई काे ईद मनाई जाएगी।

हदीस शरीफ में है कि जिस बस्ती की मसजिद में कोई शख्स एतकाफ में बैठकर अल्लाह की इबादत करें तो उस बस्ती के लोगों के गुनाह माफ कर दिए जाते हैं। पूरी बस्ती में अल्लाह तआला की रहमत बरसती है। इस बार कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर सबसे खतरनाक है। इससे पूरी दुनिया को बचाने के लिए हर नमाज के बाद अल्लाह से दुआ की जा रही है।

खबरें और भी हैं...