पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अनेदेखी:अपनी ही बालवाड़ी नहीं संभाल पा रही नपा जहां खेलते हैं बच्चे, वहीं खतरनाक सीढ़ियां

राजगढ़8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • नगर पालिका की लापरवाही का नमूना है सामुदायिक भवन परिसर में बना आंगनबाड़ी केंद्र

बच्चों की सुरक्षा को लेकर नगर पालिका की लापरवाही का प्रमाण सूरजपोल सामुदायिक भवन परिसर में बने आंगनबाड़ी केंद्र में देखा जा सकता है। आंगनबाड़ी केंद्र के सामने सामुदायिक भवन की क्षतिग्रस्त सीढ़ियां मौजूद हैं। जिस के बिल्कुल पास में बच्चों की फिसल पट्टी लगी हुई है। सीमेंट कंक्रीट की क्षतिग्रस्त सीढ़ियां कभी भी गिर सकती हैं। जिससे बच्चे बड़े हादसे का शिकार बन सकते हैं। लेकिन नगरपालिका ना तो इन सीढ़ियों को हटा रही है और ना ही आंगनबाड़ी केंद्र की सुरक्षा के लिए कोई उपाय कर रही है। जबकि बच्चों के अभिभावक कई बार नगर पालिका से व्यवस्था को सुधारने की मांग कर चुके हैं।

परिसर में ही जमा होती है वॉशरूम की गंदगी: आंगनबाड़ी केंद्र के बाहर बने वॉशरूम से गंदगी अंदर आ जाती है। नगर पालिका ने इस गंदगी को निकालने का कोई उपाय नहीं किया है। जिससे यह आंगनबाड़ी केंद्र के पास ही जमा होकर सड़ रहा है।

अपनी ही बालवाड़ी को नहीं संभाल पा रही नगर पालिका: दूसरे स्कूलों और आंगनबाड़ियों बात अलग है। नगरपालिका अपनी ही बालवाड़ी को नहीं संभाल पा रही है। नेहरू वाचनालय- डे केयर सेंटर के एक अंधेरे कमरे में नगर पालिका का नेहरू बाल मंदिर संचालित किया जा रहा है। जबकि सन 1972 में नगर पालिका ने पूरी बिल्डिंग नेहरू बाल मंदिर के नाम से ही बनवाई थी। उस दौर में शहर के ज्यादातर बच्चे इसी स्कूल में पढ़े। लेकिन बाद में इसकी हालत खराब होती गई।

नगर पालिका ने इस पर ध्यान देना बंद कर दिया। वर्तमान में स्थिति यह है कि इस परिसर में एक साथ नेहरू वाचनालय, डे केयर सेंटर के साथ नगरपालिका की कुछ शाखाएं भी संचालित की जा रही हैं। इसके अलावा जब भी कोई चुनाव होते हैं तो इस बिल्डिंग को मतदान केंद्र बना दिया जाता है। इसके आसपास का पूरा परिसर धूल और गंदगी से भरा हुआ है। जो बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो रहा है। इसे व्यवस्थित रखने की मांग स्थानीय लोग कई बार नगर पालिका से कर चुके हैं। लेकिन इस पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है।

बग्गी खाने में संचालित स्कूलों में भी यही स्थिति
ऐसी ही स्थिति थोड़ी दूरी पर स्थित बग्गी खाना परिसर में है। जहां एक साथ शासकीय प्राइमरी और मिडिल स्कूल के साथ कस्तूरबा गांधी बालिका छात्रावास भी संचालित किया जाता है। पूरे परिसर में बारिश के दिनों में पानी जमा हो जाता है। अन्य दिनों में भी क्षतिग्रस्त कमरे और बरामदे के बीच से बच्चे स्कूल में पढ़ने के लिए आते जाते हैं। पहले परिसर के बीच में खुला हुआ मैदान था। अब इसमें भी बालिका छात्रावास का एक्सटेंशन निर्माण करवा दिया गया है। जिससे बच्चों के खेलने के लिए भी जगह नहीं बची है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आप अपने व्यक्तिगत रिश्तों को मजबूत करने को ज्यादा महत्व देंगे। साथ ही, अपने व्यक्तित्व और व्यवहार में कुछ परिवर्तन लाने के लिए समाजसेवी संस्थाओं से जुड़ना और सेवा कार्य करना बहुत ही उचित निर्ण...

    और पढ़ें