पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दूधी नदी पर बन रहा 1 किमी लंबा पुल:रेलवे के जीएम ने कहा- पुल निर्माण फरवरी तक पूरा करें

राजगढ़7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
दूधी नदी पर निर्माणाधीन रेलवे पुल का अवलोकन करते हुए जीएम। - Dainik Bhaskar
दूधी नदी पर निर्माणाधीन रेलवे पुल का अवलोकन करते हुए जीएम।

मोहनपुरा डेम में अधिकतम क्षमता से पानी भराव के बाद दूधी नदी पर बना रेलवे का पुल और पटरियां डूब जाएंगी। इसीलिए करीब 1 किलोमीटर लंबे नए पुल का निर्माण लगभग 166 करोड़ रुपए की लागत से पिछले 4 साल से रेलवे द्वारा कराया जा रहा है। इसी पुल निर्माण का निरीक्षण करने के लिए बुधवार को पश्चिम मध्य रेल के महाप्रबंधक शैलेंद्र कुमार सिंह अपनी टीम के साथ जीएम स्पेशल रेल से मक्सी से पचोर होते हुए आए। पचोर स्टेशन पर भी नहीं रुके और वे 3.30 बजे ब्यावरा स्टेशन पहुंचे। यहां से सीधे मोहनपुरा डैम चले गए। उन्हाेंने ब्रिज के निर्माण की जानकारी ली औश्र निर्देश दिए कि फरवरी तक पुल का निर्माण पूरा किया जाए।

जीएम ने देखा कि जब डेम अधिकतम क्षमता में पानी से भर दिया जाएगा तब पटरियों की क्या स्थिति रहेगी। 393 मीटर तक अभी डेम को भरा जा रहा है जबकि उसे 398 मीटर तक भरा जाना है। मोहनपुरा डेम परियोजना के प्रेक्षक विकास राजोरिया ने उन्हें परियोजना के संबंध जानकारी दी।

डेम से रेलवे के वर्तमान पुल को खतरा इसलिए बना रहे ऊंचा ब्रिज
पश्चिम मध्य रेल के महाप्रबंधक शैलेन्द्र कुमार सिंह ने मण्डल रेल प्रबंधक उदय बोरवणकर एवं मण्डल के अधिकारियाें के साथ गुना मक्सी रेलखंड पर दूधी नदी पर बनाए जा रहे पुल को लेकर कहा कि मोहनपुरा बांध बनने के बाद से रेल्वे ट्रैक एवं पुल को भारी बारिश में जलस्तर बढ़ने से खतरा उत्पन्न होता है, इस कारण रेल्वे ट्रैक का मार्ग थोड़ा बदलकर ज्यादा ऊंचाई का पुल निर्माण किया जा रहा है।

निर्माण विभाग द्वारा निर्माण कराये जा रहे मोहनपुरा डायवर्जन कार्य तथा पुल का निरीक्षण के दौरान महाप्रबंधक ने जोर देकर कहा कि फरवरी 2022 तक पुल अधिरचना का काम पूरा करने के लिए सभी प्रयास किए जाने चाहिए। उन्होंने इस कार्य को गति देने के लिये विभिन्न तकनीकी उपायों पर चर्चा की। ब्यावरा सब स्टेशन का निरक्षण कर परिसर में अधिकारियों के साथ पौधारोपण कर पर्यावरण संरक्षण का संदेश भी दिया।

खबरें और भी हैं...