सतर्कता / छात्र फिट रहें इसलिए स्कूलों में होंगे खेल शिक्षक

X

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 04:00 AM IST

राजगढ. सरकारी स्कूलों के विद्यार्थी कोरोना संक्रमण जैसी बीमारियों का डटकर मुकाबला कर सकें, इसलिए प्रदेश सरकार उन्हें फिजिकली फिट बनाने की तैयारी में है। लोक शिक्षण संचालनालय (डीपीआई) ने सभी संभागों से उनके जिलों के शारीरिक संवर्ग के कर्मचारियों का डाटा मांगा है। इसमें व्यायाम शिक्षक, खेलकूद शिक्षक वर्ग-1 व वर्ग-2 और फिजिकल एजुकेशन कॉलेज शिवपुरी से सरकारी खर्च पर डिप्लोमा करने वाले सहायक अध्यापकों का ब्योरा शामिल हैए ताकि रिक्त पदों पर खेल शिक्षकों की नियुक्ति की जा सके।
शिक्षा विभाग के अनुसार अकेले शिवपुरी फिजिकल कॉलेज में ही अब तक 500 से ज्यादा सहायक अध्यापक ट्रेंड हो चुके हैं। एक शिक्षक का औसतन वेतन 20 हजार मानें तो हर शिक्षक को दो साल में 5 लाख रुपए दिए गए। 500 शिक्षकों के हिसाब से यह आंकड़ा ढाई करोड़ रुपए बनता है। वहीं राजगढ़ जिले में भी 40 से अधिक खेल शिक्षकों के पद स्वीकृत हैं। इनमें अधिकांश पद खाली पड़े हैं। बताया जा रहा है कि डीपीआई ने हर जिले से व्यायाम शिक्षकों की जानकारी मांगी है। डीईओ बीएस बिसौरिया ने डाटा भेज दिया है। खाली पद भरने से स्कूलों को व्यायाम शिक्षक मिलेंगे और खेल गतिविधियां होंगी।

सरकारी स्कूलों में खेल शिक्षक के 1050 पद रिक्त
प्रदेश के प्राइमरी और मिडिल स्कूलों में तो खेल शिक्षकों के पद ही नहीं है, जबकि हायर सेकंडरी स्कूलों में व्यायाम शिक्षकों के करीब 1050 पद खाली पड़े हैं। अफसरों का कहना है कि डीपीआई ने इसीलिए डाटा मंगवाया है, ताकि व्यायाम शिक्षकों की नियुक्ति कर स्थिति सुधारी जा सके।

500 से ज्यादा हैं ट्रेंड शिक्षक
विभाग ने शिवपुरी में फिजिकल एजुकेशन कॉलेज खोल रखा है। यहां विभागीय शिक्षकों को सरकारी खर्च पर दो साल की ट्रेनिंग दी जाती है। पहले इसमें नियमित शिक्षक ही चुने जाते थे। उन्हें बाद में पीटीआई या व्यायाम शिक्षक के पद पर प्रमोशन मिलता है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना