पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गांव में कोरोना के पांव:कोरोना की जगह टायफायड की जांच, मोती ज्वर महाराज के यहां मन्नत मांगने वालों की लाइन

राजगढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मोती ज्वर महाराज के यहां लगी लोगों की कतार। - Dainik Bhaskar
मोती ज्वर महाराज के यहां लगी लोगों की कतार।
  • 30 हजार से अधिक को बुखार, जांच तो दूर किट तक नहीं मिली

जिले में कोरोना संक्रमण अब शहर से ज्यादा गांव में फैलने लगा है। पिछले 15 दिनों से ग्रामीण क्षेत्र में बुखार सर्दी-खांसी के मरीज लगातार बढ़ रहे थे, लेकिन ग्रामीण कोरोना की बजाय टायफायड की जांच कराकर झोलाछाप डाक्टरों के यहां इलाज करा रहे हैं। वहीं टाइफाइड के चलते खिलचीपुर के मोती ज्वर महाराज के यहां भी लोगों की कतार लगी है।

जबकि गांवों में कोरोना संदिग्ध की जांच कराने और इन्हे चिंहित कर उपचार करने गांव-गांव सर्वे भी कराया जा रहा, इस सर्वे में 30 हजार से अधिक लोग बुखार से संक्रमित मिले, लेकिन इनकी कोरोना जांच तो दूर इन्हे किट तक उपलब्ध नहीं कराई। ऐसे में अब ग्रामीण क्षेत्र में कोरोना के केस बिगड़ने लगे है, इसके चलते गांवों में लोगों के बीच डर भी बैठने लगा है। इसी के चलते पिछले कुछ दिनों से जांच के आंकड़े बढ़ने के साथ ही मरीजों के आंकड़े भी बढ़ने लगे है।

पिछले सात दिन से कर रहे सर्वे, लेकिन नहीं पहुंचाई किट: जिले के 622 पंचायतों के करीब 18 सौ गांवों में पिछले सात दिनों से नियमित सर्वे किया जा रहा है। इस सर्वे के दौरान घर-घर बुखार के मरीजों को चिंहित कर उन्हें कोरोना किट उपलब्ध की जानी थी, लेकिन सर्वे के बाद इन मरीजों को किट नहीं दी जा रही। कोरोना वॉरियर रोजाना शासन को रिपोर्ट भी दे रहे है। पिछले सात दिनों में 30 हजार से अधिक लोग बुखार से पीड़ित मिले, लेकिन 10 हजार लोगों को भी किट वितरित नहीं की गई।

पॉजिटिव का टेस्ट कराएंगे तो टाइफाइड आएगा पॉजिटिव
अलशिफा पैथोलॉजी के डॉ इरफान की माने तो कोरोना संक्रमित अधिकांश मरीज की टाइफाइड जांच पॉजिटिव आ रही है। श्री खान ने बताया कि कोरोना मरीज का ओ और एच विडाल पॉजिटिव आता है, वहीं कई मरीजों के प्लेटलेट्स भी कम आ रहे है। डॉ योगेश दांगी की माने तो मान्यता अलग है और मेडिकल साइंस अलग। ऐसे में लक्षण आते ही मरीज को उपचार शुरू कर देना चाहिए, इसके लिए देशी टोटके व नुख्स भले करते रहे, लेकिन कोरोना का इलाज जरूरी है। क्योंकि अभी जो केस बिगड़े हुए आ रहे है, वह सिर्फ ग्रामीण क्षेत्र के ही है। ऐसे में गांवों में फैले संक्रमण के बीच सावधानी जरूरी है।

टाइफाइड(महाराज) के चलते के यहां लगी भीड़
संदिग्ध कोरोना संक्रमित कोरोना की जांच कराकर उसका इलाज कराने की बजाय टाइफाइड (महाराज)की जांच कराकर उसका इलाज करवा रहे है। इसके साथ ही खिलचीपुर में मोती ज्वर महाराज के यहां टाइफाइड की मन्नत के लिए भीड़ लगी है। इस दौरान यहां प्रसादी चढ़ाने के साथ ही दर्शन करने वालों की कतार है। बताया जा रहा है कि यहां सुबह से शाम तक करीब दो हजार से अधिक लोग दर्शन के लिए आ रहे है।

इसके साथ ही ग्रामीण महाराज के नाम की दसी(सफेद कपड़े में पांच गठान ) गले में बांध रहे, ताकि वह टाइफाइड से ठीक होने पर मोती ज्वर महाराज के यहां प्रसादी चढ़ा सके। हालांकि यहां जिला प्रशासन ने स्वास्थ्य टीम को बैठा दिया है, जो स्क्रीनिंग के बाद ही अंदर प्रवेश दे रहे है।

खबरें और भी हैं...