पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पांच दिवसीय होली:कोरोना वायरस से बचने नारियल और कंडों की जलाई होली

सीहोर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना वायरस और अन्य बीमारियों से बचने के लिए अब आयोजन समितियां फिर से पुरानी परंपरा पर आ गई हैं। रविवार देर रात शहर में 125 से अधिक स्थानों पर सिर्फ कंडे तो कहीं नारियल और कंडे के साथ कपूर, लोंग और इलाइची डालकर होली सजाई गई। आयोजन समितियों का मानना है कि कोरोना सहित अन्य बीमारियों से निपटने के लिए नारियल, गोबर के कंडों की होली जलाई गई है। इसमें कपूर और लोंग-इलायची डाली गई थी । माता मंदिर चौराहा पर राठौर समाज होली उत्सव समिति पर होली पर आकर्षक साज-सज्जा की गई। इसी तरह बड़ियाखेड़ी होली उत्सव समिति ने 1100 कंडों की हाेली जलाई। भोपाल नाका पर कुशवाह समाज ने भी गोबर के कंडों की होली जलाई। गंज में होली उत्सव समिति ने 650 कंडों की होली जलाई।
125 से अधिक स्थानों पर विधि-विधान से होलिका दहन : सोमवार को रंगों के त्योहार की शुरुआत होगी। इस बार खास बात यह है कि लोग पुरानी परंपरा से जुड़कर कंडों की होली जला रहे हैं। देर रात तक होली पूजन चलता रहा।

हर दिन अलग-अलग जगह होली की धूम

पहले दिन : होलिका दहन के बाद धुलेंड़ी पर रंग तो होता ही है, लेकिन में इस दिन परंपरागत रूप से गेर भी निकालते हैं। इस बार गेर जुलूस के रूप में नहीं निकलेगी। हालांकि आयोजन समिति के लोग शोकाकुल परिवार में पहुंचकर गुलाल डालेंगे।
दूसरे दिन : भाईदूज को शहर में जमकर होली खेली जाती है। बताया गया है कि इस दिन भोपाल के नवाब हमीदउल्लाह खान दूज के दिन होली खेलने सीहोर आते थे।
तीसरे दिन : बताया जाता है कि होली के तीसरे दिन नवाब आष्टा पहुंचते थे और वहां बुधवारे में बैठते थे। नवाबी परंपरा आज भी यहां कायम है। आष्टा के पुराना नपाध्यक्ष भवन पर जमकर होली खेली जाती है।
चौथे दिन : होली के चौथे दिन नवाब जावर पहुंचते थे। जावर में भी पूरे उल्लास के साथ पर्व मनाया जाता था।
पांचवे दिन : रंग पंचमी पर पूरे जिले में होली खेली जाती है। जुलूस निकाला जाता है, जिससे पूरा नगर त्योहार की खुशियों में डूब जाता है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय कड़ी मेहनत और परीक्षा का है। परंतु फिर भी बदलते परिवेश की वजह से आपने जो कुछ नीतियां बनाई है उनमें सफलता अवश्य मिलेगी। कुछ समय आत्म केंद्रित होकर चिंतन में लगाएं, आपको अपने कई सवालों के उत...

    और पढ़ें