डोर टू डाेर वैक्सीनेशन:इधर व्यवस्थाओं का सुखद पहलू... ईंट-भट्‌टों और खेतों पर भी जाकर लगाई वैक्सीन

सीहोर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
खेतों में काम कर रहे लोगों को वैक्सीन लगाई गई। - Dainik Bhaskar
खेतों में काम कर रहे लोगों को वैक्सीन लगाई गई।

कोरोना संक्रमण की संभावित तीसरी लहर चलते अब लोग वैक्सीन लगवाने में जागरुकता दिखा रहे हैं। वहीं सबको सुरक्षित रखने के लिए स्वास्थ्य विभाग का अमला भी खेत-खेत जाकर तो कभी ईंट-भट्‌टों पर जाकर लोगों को वैक्सीन लगा रहा है। इसका नतीजा यह रहा कि बुधवार को जिले में कुल 38 हजार 112 लोगों को कोविड-19 से बचाव के लिए सुरक्षा का टीका लगाया गया। कोरोना संक्रमण वे बचाव के लिए वैक्सीनेशन जरूरी है। इसलिए जिले में वैक्सीनेशन को लेकर विशेष अभियान चलाया जा रहा है। बुधवार को भी सुबह 8 बजे से ही लोग स्वेच्छा से वैक्सीन लगवाने केंद्रों पर पहुंचने लगे। वैक्सीनेशन के लिए जिले में 341 केंद्र बनाए गए थे। जो लोग केंद्राें पर वैक्सीन लगवाने नहीं पहुंचे उन्हें स्वास्थ्य विभाग के अमले ने खुद ढूंढकर वैक्सीन लगाई है। ऐसे में अब तक जिले में कुल 16 लाख 10 हजार 350 डोज वैक्सीन के लगाए जा चुके हैं। इनमें से 9 लाख 32 हजार 717 लोगों को पहला और 6 लाख 77 हजार 813 लोगों को वैक्सीन का दूसरा डोज लगाया गया। स्वास्थ्य अमले द्वारा घर-घर जाकर और खेतों पर काम कर कर रहे मजदूरों को भी टीका लगाया गया है। श्यामपुर तहसील के ग्राम गेरूखान में खेतों में काम कर रहे मजदूरों का एएनएम द्वारा टीकाकरण किया। वहीं मजदूरों को भी टीका लगाया गया।

खबरें और भी हैं...