पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

राहत:पाइप लाइन नहीं जुड़ी तो हौद बनाया, 24 हजार आबादी को समय से मिलेगा पानी

सीहोरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • क्षतिग्रस्त लाइन की जब नहीं हो सकी मरम्मत तो इंटेक कर लिफ्टिंग का काम शुरू

दो महीने पहले जब तेज बारिश हुई तो नदी-नाले उफान पर आ गए। सीवन नदी भी लबालब बहने लगी। इस दौरान भगवानपुरा तालाब से फिल्टर प्लांट के लिए जो पानी की सप्लाई लाइन आ रही है वह फोरलेन के पास पुलिया के नीचे से क्षतिग्रस्त हो गई थी। यहां पर 7 फीट से अधिक पानी भरा होने से इसकी मरम्मत नहीं हो पा रही थी। नपा के अमले ने अब यहां पर पानी स्टोरेज की व्यवस्था की और फूटी पाइप लाइन से मोटर पंप लगाकर पानी सप्लाई शुरू कराई। इस तरह करीब 13 कालोनियों के 24 हजार लोगों को समय पर पानी मिलना शुरू हो गया है। नगर में तीन जगह से पानी सप्लाई किया जाता है। इनमें पार्वती नदी के काहिरी बंधान के अलावा नगर के पास स्थित दो तालाबों से पानी लिया जाता है। इनमें जमोनिया और भगवानपुरा तालाब हैं। भगवानपुरा तालाब से भी हर रोज 20 से 30 लाख लीटर पानी लिया जाता है। इसी तरह जमोनिया से 40 और काहिरी से भी 40 लाख लीटर पानी लिया जाता है।

13 कालोनियों में रूटीन से मिलने लगा पानी
शुक्रवार को भगवानपुरा तालाब के पानी की सप्लाई शुरू कर दी गई है। पहले दिन चाणक्यपुरी और अवधपुरी आदि क्षेत्रों में पानी दिया गया। शनिवार को वार्ड नंबर 7 में भी पानी दिया जाएगा। इस तरह से अब समय पर यहां के लोगों को पानी मिल सकेगा। इस तरह 13 कॉलोनियों और मोहल्लों की करीब 24 हजार की आबादी को अब समय पर पानी मिला करेगा।

दो महीने पहले क्षतिग्रस्त हुई थी लाइन
भगवानपुरा तालाब से फोरलेन के पास बने फिल्टर प्लांट के लिए जिस पाइप लाइन से पानी आता है वह यहां पुलिया के नीचे से क्षतिग्रस्त हो गई थी। 22 अगस्त को भारी बारिश के कारण फोरलेन की पुलिया के नीचे से आ रही पानी की सप्लाई लाइन क्षतिग्रस्त हो गई। इसके बाद से भगवानपुरा तालाब से पानी की सप्लाई बंद कर दी गई थी। तभी से नगर पालिका का अमला यहां पर मरम्मत करने का प्रयास कर रहा था लेकिन 7 फीट से अधिक पानी होने से यह काम संभव नहीं हो सका।
पानी के स्टोरेज की व्यवस्था कर लगाया मोटर पंप
जिस पुलिया के नीचे पाइप लाइन फूटी है उसी के पास नगर पालिका ने इंटेक बेल यानि पानी के स्टोरेज के लिए पर्याप्त जगह तैयार की और फिर जो लाइन फूटी पड़ी है उसे मोटर पंप से जोड़कर पानी सप्लाई का काम शुरू करा दिया गया है। अब तालाब का पानी पुलिया के पास आ रहा है और फिर यहां से मोटर पंप से पानी को फिल्टर प्लांट के लिए लिफ्ट किया जा रहा है।

अभी नहीं कट सके 2500 अवैध नल कनेक्शन
शहर में करीब 18 हजार से अधिक नल कनेक्शन हैं। इनमें से 2500 आज भी अवैध रुप से चल रहे हैं। जानकारी अनुसार सबसे अधिक अवैध नल कनेक्शन उन लाइन पर हैं जहां पर ट्यूबवेलों से सीधे पानी सप्लाई किया जाता है। वहीं हर माह 3 लाख रुपए के राजस्व का नुकसान हो रहा है। अभी एक नल कनेक्शन के 120 रुपए प्रतिमाह किराया लिया जाता है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- परिस्थितियां आपके पक्ष में है। अधिकतर काम मन मुताबिक तरीके से संपन्न होते जाएंगे। किसी प्रिय मित्र से मुलाकात खुशी व ताजगी प्रदान करेगी। पारिवारिक सुख सुविधा संबंधी वस्तुओं के लिए शॉपिंग में ...

और पढ़ें