पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Sehore
  • In October, Threshing Of Soybeans And Garbage Are Being Burnt, So The Air Of Sehore Is More Polluted Than Bhopal, Indore

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

हवा दूषित:अक्टूबर में सोयाबीन की थ्रेसिंग हुई व कचरा जला रहे इसलिए सीहोर की हवा भोपाल, इंदौर से ज्यादा दूषित

सीहोर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
इस तरह कचरा जलाया जाता है, जिससे प्रदूषण फैल रहा है। - Dainik Bhaskar
इस तरह कचरा जलाया जाता है, जिससे प्रदूषण फैल रहा है।
  • प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा जारी की गई रिपोर्ट में सीहोर का एयर क्वालिटी इंडेक्स खराब
  • कंस्ट्रक्शन वर्क शुरू होने और सड़कों से उड़ रही धूल से बढ़ रहा प्रदूषण, एयर क्वालिटी इंडेक्स 145 पर पहुंचा

सोयाबीन की फसल की थ्रेसिंग, क्लाउडी वेदर और खुले में जल रहे लाखों टन कचरे की वजह से ही क्षेत्र की हवा जहरीली हो गई है। इसके साथ ही कंस्ट्रक्शन वर्क शुरु होने और खराब सड़कों पर वाहनों से उड़ती धूल से भी प्रदूषण का स्तर बढ़ा है। यही वजह है कि प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा जारी कई गई अक्टूबर महीने की रिपोर्ट में सीहोर का एयर क्वालिटी इंडेक्स 145 तक पहुंच गया है।

यह हवा फेफड़े की बीमारी, अस्थमा, हृदय रोग के साथ-साथ बच्चों और बड़े वयस्कों को सांस लेने में तकलीफ पहुंचा सकती है। प्रदेश की बात करें तो राजधानी भोपाल, इंदौर और जबलपुर जैसे महानगरों से भी ज्यादा दूषित सीहोर की हवा हो चुकी है। पिछले दिनों दीपावली पर हुई आतिशबाजी से हवा और अधिक दूषित हुई है। ऐसे में पिछले एक महीने में ही एक्यूआई में 83 की बढ़ोत्तरी हुई है। बता दें कि 31 मार्च को लॉकडाउन के बाद क्षेत्र में वाहनों की आवाजाही पूरी तरह से बंद हो गई थी। जून महीने से अनलॉक की प्रक्रिया शुरू हुई।

धीरे-धीरे वाहनों का आवागमन बढ़ा। ऐसे में जुलाई महीने में जिले के क्वालिटी इंडेक्स 87.87 था। अगस्त महीने में फिर से क्वालिटी इंडेक्स में थोड़ा सुधार हुआ और क्वालिटी इंडेक्स 74.50 पर पहुंच गया। इसके बाद सितंबर महीने में यह और सुधार क्वालिटी इंडेक्स 62.49 दर्ज किया गया। लेकिन अक्टूबर महीने ने पूरे रिकार्ड तोड़ दिए। ऐसे में जिले के क्वालिटी इंडेक्स में पिछले महीने दो गुना से अधिक बढ़ोत्तरी हुई और एयर क्वालिटी इंडेक्स 145 रिकार्ड किया गया। इसका असर लोगों की सेहत पर भी दिखाई दिया।

स्वास्थ्य पर यह होता है असर

  • सांस लेने में दिक्कत
  • आंखें, नाक और गले में जलन
  • छाती में खिंचाव
  • फेंफड़ों का सही से काम न कर पाना
  • गंभीर श्वसन रोग
  • अनियमित दिल की धड़कन आदि

वायु प्रदूषण से आप ऐसे बचें

  • मास्क का उपयोग करना चाहिए, दिक्कत होने पर डॉक्टर से सलाह लें।
  • प्रदूषण स्तर उच्च होने पर बाहर व्यायाम करने से बचें।
  • लकड़ी न जलाएं, क्योंकि ये कण प्रदूषण का प्रमुख स्त्रोत है।
  • इनडोर और आउटडोर दोनों जगहों पर धूम्रपान न करें।

आखिर ऐसी स्थिति क्यों बनी
प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्राधिकारी आलोक सिंघई के अनुसार एयर क्वालिटी इंडेक्स बढ़ने के लिए कई कारण हो सकते हैं। जैसे फसलों के बाद पराली जलाना, कंस्ट्रक्शन वर्क होने से धूल का उड़ना, क्लाउडी वेदर होने से भी ऐसी स्थिति बनती है। क्लाउडी वेदर में आर्द्रता अधिक होने से धूल के कल बूंदों पर जम जाते हैं, इससे भी एक्यूआई बढ़ता है।

थ्रेसिंग और बादल युक्त मौसम की वजह से बढ़ी समस्या
मौसम विशेषज्ञ डॉ. सत्येंद्र सिंह तोमर के अनुसार अक्टूबर महीने में जिलेभर में सोयाबीन की थ्रेसिंग तेजी से हुई है। इसके साथ ही बादल युक्त मौसम भी रहा है। डॉ. तोमर ने बताया कि धूल के कण नमी पर सवार हो जाते हैं, इससे प्रदूषण तेजी से बढ़ता है। ये सुबह-शाम के समय धुंध के रूप में आसानी से देखे जा सकते हैं।

क्या होता है एयर क्वालिटी इंडेक्स
वायु की गुणवत्ता की माप के लिए विश्व के अलग-अलग देशों में एयर क्वालिटी इंडेक्स बनाए गए हैं। यह बताता है कि हवा में किन गैसों की कितनी मात्रा घुली हुई है। हवा की गुणवत्ता के आधार पर इस इंडेक्स में 6 केटेगरी बनाई गई हैं। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अनुसार यदि एयर क्वालिटी इंडेक्स 50 से कम होता है तो हवा शुद्ध और अच्छी होती है। लेकिन यही एयर क्वालिटी इंडेक्स 50 से बढ़कर 99 तक पहुंचता है तो हवा का स्तर ठीक याने संतोषजनक होता है। एयर क्वालिटी इंडेक्स 100 के ऊपर जाती है तो यह माना जाता है कि हवा में प्रदूषण ज्यादा है। वह नुकसानदायी है। एक्यूआई 150 से अधिक जाने पर हवा स्वास्थ्य के लिए खतरनाक मानी जाती है।

हमारे शहर की भोपाल, इंदौर और जबलपुर से भी ज्यादा खराब स्थिति
सीहोर जिले की स्थिति भोपाल, इंदौर और जबलपुर जैसे महानगरों से भी ज्यादा खराब है। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की रिपोर्ट पर नजर डालें तो अक्टूबर महीने में सीहोर का एक्यूआई 145 है। जबकि भोपाल का एक्यूआई 123, इंदौर और जबलपुर का एक्यूआई 113 है। हालांकि ग्वालियर का एयर क्वालिटी इंडेक्स प्रदेश में सबसे ज्यादा खराब है। अक्टूबर महीने में ग्वालियर का एक्यूआई 182 रिकार्ड किया गया। इधर संभाग के जिलों की बात करें तो विदिशा का एक्यूआई 112 रिकार्ड हुआ है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- जिस काम के लिए आप पिछले कुछ समय से प्रयासरत थे, उस कार्य के लिए कोई उचित संपर्क मिल जाएगा। बातचीत के माध्यम से आप कई मसलों का हल व समाधान खोज लेंगे। किसी जरूरतमंद मित्र की सहायता करने से आपको...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser