भोपाल से सीहोर तक बरसे शहीद पर फूल:पिता के ताबूत के पास खेलता रहा डेढ़ साल का बेटा; 11 PHOTO में देखिए 'नायक' का आखिरी सफर

सीहोर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

तमिलनाडु हेलिकॉप्टर हादसे में शहीद पैरा कमांडाे जितेंद्र कुमार वर्मा का रविवार को मध्यप्रदेश के सीहोर जिले में उनके पैतृक गांव धामंदा में अंतिम संस्कार किया गया। इससे पहले भोपाल से सीहोर तक शहीद की पार्थिव देह लेकर आ रहे वाहन पर लोगों ने जगह-जगह सड़क किनारे खड़े होकर फूल बरसाए। लोगों की आंखें तब भर आईं, जब अंतिम दर्शन के दौरान डेढ़ साल का बेटे चैतन्य को पिता की पार्थिव देह के पास बैठाया गया और दुनियादारी से अनजान वह मासूम वहीं खेलने लगा।

जितेंद्र की पार्थिव देह सुबह 11 बजे दिल्ली से भोपाल एयरपोर्ट पर पहुंची। यहां से पार्थिव शरीर फूलों से सजे सेना के वाहन में सड़क मार्ग से पैतृक गांव धामंदा के लिए रवाना हुआ, जो करीब डेढ़ बजे गांव पहुंचा। सीएम शिवराज सिंह ने अर्थी को कंधा दिया। परिवार से मिले। शहीद की 4 साल की मासूम बेटी को दुलारा। पत्नी सुनीता, पिता और भाई को सांत्वना दी।

नायक जितेंद्र सिंह 8 दिसंबर को हुए हेलिकॉप्टर कैश में शहीद हो गए थे। सीडीएस रावत के हेलिकॉप्टर में वह भी सवार थे।
नायक जितेंद्र सिंह 8 दिसंबर को हुए हेलिकॉप्टर कैश में शहीद हो गए थे। सीडीएस रावत के हेलिकॉप्टर में वह भी सवार थे।
शहीद की अंतिम विदाई के लिए विशेष इंतजाम किए गए थे। अंत्येष्टि स्थल पर तिरंगे के रंग के बैलून लगाए गए थे।
शहीद की अंतिम विदाई के लिए विशेष इंतजाम किए गए थे। अंत्येष्टि स्थल पर तिरंगे के रंग के बैलून लगाए गए थे।
मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल से सीहोर तक रास्ते भर लोग शहीद के सम्मान में खड़े सड़कों पर नजर आए।
मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल से सीहोर तक रास्ते भर लोग शहीद के सम्मान में खड़े सड़कों पर नजर आए।
मुख्यमंत्री शिवाराज सिंह ने पैरा कमांडो की अर्थी को कंधा दिया। इस दौरान सीहोर में शहीद के पैतृक गांव धामंदा के लोग बड़ी तादाद में मौजूद रहे।
मुख्यमंत्री शिवाराज सिंह ने पैरा कमांडो की अर्थी को कंधा दिया। इस दौरान सीहोर में शहीद के पैतृक गांव धामंदा के लोग बड़ी तादाद में मौजूद रहे।
जितेंद्र का पार्थिव शरीर जब उनके गांव धामंदा पहुंचा तो अंतिम दर्शन के लिए पार्थिव देह को घर के अंदर ले जाया गया।
जितेंद्र का पार्थिव शरीर जब उनके गांव धामंदा पहुंचा तो अंतिम दर्शन के लिए पार्थिव देह को घर के अंदर ले जाया गया।
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पैरा कमांडो के पार्थिव शरीर पर पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी।
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पैरा कमांडो के पार्थिव शरीर पर पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी।
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान रविवार को जितेंद्र के घर सांत्वना देने पहुंचे। उन्होंने शहीद के डेढ़ साल के बेटे चैतन्य को गोद में बैठाकर दुलार किया।
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान रविवार को जितेंद्र के घर सांत्वना देने पहुंचे। उन्होंने शहीद के डेढ़ साल के बेटे चैतन्य को गोद में बैठाकर दुलार किया।
जितेंद्र के पिता और भाई को सांत्वना देते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौरान। उन्होंने परिवार को हर संभव मदद का आश्वासन दिया।
जितेंद्र के पिता और भाई को सांत्वना देते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौरान। उन्होंने परिवार को हर संभव मदद का आश्वासन दिया।
पैरा कमांडो जितेंद्र के परिजनों ने उनके अंतिम संस्कार के लिए लकड़ी की जगह ज्यादातर गोबर के कंडों का उपयोग किया।
पैरा कमांडो जितेंद्र के परिजनों ने उनके अंतिम संस्कार के लिए लकड़ी की जगह ज्यादातर गोबर के कंडों का उपयोग किया।
जितेंद्र के अंतिम संस्कार में लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी। आसपास के जिलों से भी लोग उनके अंतिम दर्शन करने पहुंचे।
जितेंद्र के अंतिम संस्कार में लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी। आसपास के जिलों से भी लोग उनके अंतिम दर्शन करने पहुंचे।
खबरें और भी हैं...