ज्योतिष / 35 दिन के अंदर 3 ग्रहण पर दिखेगा सिर्फ सूर्यग्रहण

X

  • 58 साल बाद बनी स्थिति, इससे पहले 1962 में भी 30 दिन में तीन ग्रहण का बना था संयोग

दैनिक भास्कर

Jun 02, 2020, 07:38 AM IST

सीहोर. इस माह जून में दो और जुलाई में एक ग्रहण होगा। 5 जून को मांद्य चंद्र ग्रहण, 21 जून को सूर्य ग्रहण और 5 जुलाई को फिर से मांद्य ग्रहण होगा। हालांकि हमारे यहां मात्र सूर्यग्रहण दिखेग। पं. संजय शास्त्री ने बताया इस समय शनि मकर राशि में वक्री है। इस साल से पहले 1962 में ऐसा योग बना था। उस समय भी शनि मकर राशि में वक्री था और लगातार तीन ग्रहण हुए थे।
5 जून को ज्येष्ठ की मास की पूर्णिमा है। 21 जून को आषाढ़ मास की अमावस्या है। 5 जुलाई को आषाढ़ मास की पूर्णिमा है। इन तीनों तिथियों पर ग्रहण होंगे। पं.शास्त्री के अनुसार 58 साल पहले 1962 में 17 जुलाई को मांद्य चंद्र ग्रहण, 31 जुलाई को सूर्य ग्रहण और 15 अगस्त को पुन: मांद्य चंद्र ग्रहण हुआ था। उस समय भी शनि मकर राशि में वक्री था। इस साल 5 जून को लगने वाला चंद्र ग्रहण भारत में रहेगा, लेकिन दिन में होने से यह दिखाई नहीं देगा। 5 जून एवं 5 जुलाई के दोनों चंद्र ग्रहण मांद्य हैं, अत: इनका कोई भी धार्मिक असर मान्य नहीं होगा। किसी भी राशि पर भी इन दोनों चंद्र ग्रहण का असर नहीं होगा। जबकि 21 जून को खंडग्रास यानी आंशिक सूर्य ग्रहण रहेगा। ये ग्रहण भारत के अलावा एशिया, अफ्रिका और यूरोप कुछ क्षेत्रों में भी दिखेगा। 
प्राकृतिक आपदा आने के योग: पंडित शास्त्री के मुताबिक मृगशिरा नक्षत्र के स्वामी मंगल है। मकर राशि में स्थित वक्री शनि की पूर्ण तृतीय दृष्टि, मीन राशि में स्थित मंगल पर पड़ रही है, मंगल की सूर्य पर दृष्टि और शनि-गुरु की युति है। ग्रहों की ये स्थिति बड़े भूकंप का कारण बन सकती है। 
सभी राशियों पर ग्रहण का असर: पं. शास्त्री ने बताया कि मेष, सिंह, कन्या, मकर राशि के लिए सूर्य ग्रहण शुभ फल देने की स्थिति में रहेगा। वृष, मिथुन, कर्क, तुला, वृश्चिक, धनु, कुंभ और मीन राशि के लोगों को सतर्क रहकर काम करना होगा। इन लोगों के लिए बाधाएं बढ़ सकती हैं।

20 जून की रात से लगेगा सूतक 
पंडित शास्त्री के अनुसार सूर्य ग्रहण का स्पर्श 21 जून को सुबह 10.14 मिनट पर, ग्रहण का मध्य 11.56 मिनट पर और ग्रहण का मोक्ष 1.38 मिनट पर होगा। ग्रहण का सूतक काल 20 जून की रात 10.14 मिनट से आरंभ हो जाएगा। सूतक जो 21 जून की दोपहर 1.38 तक रहेगा। इस वर्ष का यह एक मात्र ग्रहण होगा जो भारत में दिखेगा और इसका धार्मिक असर भी मान्य होगा। ये ग्रहण मृगशिरा नक्षत्र में और मिथुन राशि में लगेगा।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना