कंस्ट्रक्शन एजेंसी का कारनामा:पुल की सतह पर निकल आए सरिए, उभरे गड्‌ढे, पत्थर रखकर छ़ुपा रहे लापरवाही

श्‍यामपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गुणवत्ता में गोलमाल - Dainik Bhaskar
गुणवत्ता में गोलमाल
  • सीहोर मंडी से बरखेड़ा हसन प्रमुख मार्ग पर बनी पुल पुलियां बदहाल

सीहोर की मंडी जमुलिया तालाब से दोराहा जोड़ व दोराहा जोड़ से अहमदपुर बरखेड़ा हसन मार्ग के बीच में पड़ने वाले नदी नालों के पुल डेंजर जोन में तब्दील हो गए हैं। यह लोगों के लिए दुर्घटनाओं का कारण बन रहे हैं। देखरेख एवं मरम्मत के अभाव में पुल पर गहरे गड्ढे उभर आए हैं। यहां तक फर्श में लगे लोहे के सरिए भी बाहर निकल आए हैं। इन सरियों में उलझकर आए दिन बाइक सवार दुर्घटना का शिकार हो रहे हैं। इतना ही नहीं इन सरियों के कारण आए दिन वाहन भी पंचर हो रहे है। यह जानकारी जिम्मेदार अधिकारियों को भी है, लेकिन वे पुल पर उभर आए इन गड्ढाें को ठीक करने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे हैं। पिछले महीनों हुई बारिश में इस पुल का 12 इंच मोटा कांक्रीट का स्लैब पानी में बह गया था। क्षतिग्रस्त होने के एक माह बाद भी संबंधित विभाग ने इन पुलों की मरम्मत का काम शुरू नहीं किया है। इससे पुल से गुजरना खतरनाक हो गया है। इस मामले में विभागीय अधिकारियों द्वारा बरती जाने वाली लापरवाही हादसे का कारण बन सकती है। बरखेड़ा हसन से अहमदपुर, भोपाल ब्यावरा हाइवे जोड़ से जिला मुख्‍यालय के जमुनिया तालाब मार्ग बहुत व्यस्त हो गया है। अहमदपुर दोराहा, झरखेड़ा, सेमरादांगी जोड़ने वाला मुख्य मार्ग होने से यहां से बड़ी संख्या मे ओवरलोड वाहन निकल रहे हैं। पुल की क्षमता से ज्यादा भार वाले वाहन गुजरने से सड़क खस्ता हाल होकर खराब हो गई है। अहमदपुर बरखेड़ा हसन मुख्‍य मार्ग के पारुआ नदी बरखेड़ा हसन के पास स्थित पुल की परत खस्ता हाल हो जाने से आने.जाने वाले राहगीर आए दिन दुर्घटनाओं के शिकार हो रहे हैं।

बना रहता है हादसे का डर
ग्रामीण ने बताया कि इस नदी के पुल पर रेलिंग ना होने के कारण लोग नदी मे गिरने से बाल.बाल बचते हैं। बस के ड्राइवरों ने बताया कि सवारी से भरी बसों को इस पुल से बहुत सावधानी पूर्वक निकालना पड़ता है। नहीं तो कभी भी इस खस्ता हाल पुल पर बड़ी दुर्घटना हो सकती है। समाजसेवी का कहना है कि यह पुल के चक्कर में उपेक्षा का शिकार है।

खबरें और भी हैं...