पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Sehore
  • Without Wire Fencing, Mine Took 1 Life Again ... Friends Were Conditioned To Reach From One End To The Other Quickly, Ankit Reached First But Drowned While Coming Back

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पत्थर की खदान:बिना तार फेंसिंग की खदान ने ली फिर 1 जान... दोस्तों में एक छोर से दूसरे छोर तक जल्दी पहुंचने की शर्त लगी, अंकित पहले पहुंच गया पर वापस आते समय डूब गया

सीहोर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • शासन-प्रशासन खदानों की लीज से राजस्व कमाते हैं तो सुरक्षा व्यवस्था के इंतजाम कौन करेगा

दोस्तों के साथ रविवार काे मुबारिकपुर मांडली पर लगे क्रेसर के पास पत्थर की खदान में भरे पानी 16 वर्षीय अंकित डूब गया। अंकित और उसके साथियों ने एक छोर से दूसरे छोर तक तैरते हुए जाने की होड़ लगी थी। अंकित के डूबने की खबर के बाद तुरंत ही परिजन और अन्य ग्रामीण वहां पहुंचे और अंकित की तलाश शुरू की। रात दस बजे अंकित का शव खदान में मिल गया। अंकित के डूबने की खबर के तीन घंटे बाद भी प्रशासन की तरफ से कोई अधिकारी नहीं पहुंचा। दोपहर करीब 3 बजे ऐसे में गांव के लोग ही अंकित को तलाशते रहे। स्थानीय गोताखोरों की मदद से पुलिस अंकित की तलाश कर रही थी। गांव मुबारिकपुर मांडली निवासी अंकित वर्मा पुत्र महेशचंद्र वर्मा सुबह करीब 11 बजे अपने दोस्तों के साथ मांडली की पठार पर गिट्टी मशीन के पास खदान में भरे पानी में नहाने गया था। अंकित तैरना भी बखूबी जानता था। इस बीच दोस्तों में एक छोर से दूसरे छोर जाने की होड़ चल रही थी। अंकित एक छोर से दूसरे छोर तक तो चला गया, लेकिन उधर से वापस आने में बीच में ही डूब गया। उसके दोस्त दूसरे छोर पर पहुंचे पर अंकित नहीं दिखा तो उसकी तलाश शुरू की। काफी देर तक जब अंकित नहीं मिला तो इसकी सूचना गांव में परिजनों को दी गई। अंकित को तलाशने के लिए स्थानीय लोग खदान में कूद गए। 2 घंटे बाद टीआई सिद्धार्थ प्रियदर्शन अपने बल के साथ मौके पर पहुंचे। जबकि एसडीएम व अन्य प्रशासनिक अधिकारी तीन घंटे बाद पहुंचे। बता दें कि खदान के खदान में डूबा अंकित दो बहनों का इकलौता भाई था।

मुबारिकपुर मंडली में सड़क किनारे ही बड़ी खदान, फिर भी तार फेंसिंग नहीं

200 फीट लंबी और 60 फीट चौड़ी खदान: जिस पत्थर की खदान में अंकित डूबा वह किसी तालाब से कम नहीं है। ग्रामीणों के अनुसार खदान की लंबाई करीब 180 से 200 फीट लंबी और चौड़ाई 60 फीट से अधिक है। इसके बावजूद इसकी तार फेंसिंग नहीं की गई है।

सवाल : इतनी बड़ी खदान खुली क्यों पड़ी

आष्टा से मांडली बागेर रोड पर सड़क किनारे करीब 500 मीटर की दूर पत्थर की जिस खदान में अंकित डूबा है वहां सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं हैं। फेंसिंग तो दूर की बात, यहां तक कि खदान के आसपास कोई बोर्ड तक नहीं लगा है। यहां पास में दो खदानें और हैं लेकिन वहां भी सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं हैं। इस मामले में एसडीएम विजयकुमार मंडलोई का कहना है कि क्रेसर संचालकों की बैठक लेकर इस तरह गड्ढे खुले न छोड़ने की समझाइश दी जाएगी। इसके साथ ही ग्राम पंचायतों के सहयोग से ऐसी खदानों के आसपास बेरिकेड्स लगाए जाएंगे, ताकि लोग यहां नहाने न जाएं।

ग्रामीणों में आक्रोश, टीआई ने समझाकर शांत किया
खदान के गहरे पानी में डूबे अंकित का कोई पता नहीं चला। ऐसे में सूचना के बाद भी प्रशासनिक मदद न मिलने से मांडली सहित बागेर, गुराड़िया आदि गांव के लोग आक्रोशित हो उठे। हालंाकि टीआई ने उन्हें समझाने का प्रयास किया। इसके बद आष्टा नपा की वोट खदान पर लाई गई। घटना के करीब चार घंटे बाद बचाव दल मौके पर पहुंचा।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- रचनात्मक तथा धार्मिक क्रियाकलापों के प्रति रुझान रहेगा। किसी मित्र की मुसीबत के समय में आप उसका सहयोग करेंगे, जिससे आपको आत्मिक खुशी प्राप्त होगी। चुनौतियों को स्वीकार करना आपके लिए उन्नति के...

और पढ़ें