मिलीभगत:7 साल पहले शुरू हुई जलावर्धन योजना अब तक अधूरी

शमशाबाद6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 10 करोड़ 22 लाख खर्च होने के बाद भी पेयजल समस्या नहीं सुधरी

नगर की पेयजल समस्या का स्थायी रूप से समाधान करने के लिए 7 साल पहले शुरू हुआ नई जलावर्धन योजना का कार्य अब तक पूरा नहीं हो सका है। आधे से ज्यादा नगर में अब भी पुरानी लाइन से पेयजल सप्लाई किया जा रहा है।

10 करोड़ 22 लाख रुपए की लागत वाली जलावर्धनयोजना वर्ष 2014 में शुरू हुई थी लेकिन ठेकेदार व अधिकारियों की मिली भगत के चलते पिछले 7 साल से निर्माण कार्य अधूरा पड़ा है।

खबरें और भी हैं...