पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Shayampur
  • Amazing Stories Of Support Price ... Not Registering Gram masoor, But Messages Coming To Sell The Produce, Not Even Beginning To Buy At The Center Built For 150 Villages

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

गफलत का परिणाम:समर्थन मूल्य के अजब-गजब किस्से... चना-मसूर का पंजीयन नहीं पर उपज बेचने आ रहे मैसेज, 150 गांवों के लिए बने केंद्र पर खरीदी की शुरुआत ही नहीं

श्यामपुर16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • अधिकारी बोले-सत्यापन के बाद ही इंट्री होती है, किसानों का कहना है कि गिरदावरी में हुई है गलती

इस बार चना और मसूर का कई किसानों ने पंजीयन कराया ही नहीं था लेकिन इसके बाद भी उनके पास खरीदी के एसएमएस आ रहे हैं। किसानों का कहना है कि उन्होंने फसल बोई ही नहीं थी। वहीं 150 गांवों के लिए बनाए गए खरीदी केंद्र में अभी तक एक भी दाना नहीं खरीदा जा सका है जबकि समर्थन मूल्य खरीदी केंद्र को शुरू हुए पूरे 10 दिन हो चुके हैं। समर्थन मूल्य पर चना और मसूर की खरीदी सबसे पहले शुरू हो गई थी। इसके लिए श्यामपुर क्षेत्र में 150 गांवों के लिए एक खरीदी केंद्र बनाया गया है। हालांकि पिछले 10 दिनों से यहां पर एक भी किसान उपज लेकर नहीं आया है। चना मसूर के लिए भोपाल रोड पर खरीदी केंद्र बनाया गया है। क्षेत्र के 150 गांवों के 1236 किसानों को यहां पर उपज लेकर आना था लेकिन एक भी किसान उपज लेकर नहीं आया। 27 मार्च से शुरू हो चुकी है खरीदी : चना और मसूर की खरीदी 27 मार्च से शुरू हो चुकी है। प्रतिदिन किसानों को चना मसूर की उपज लेकर केंद्र पर पहुंचने के संदेश भेजे जा रहे हैं। 350 किसानों को उपज लेकर आने के लिए संदेश भेजे जा चुके हैं। संबंधित किसानों से केंद्र नहीं पहुंचने का कारण जानना चाहा तो उन्होंने बताया कि हमने तो चना व मसूर का पंजीयन कराया ही नहीं। अधिकारियों ने बताया कि बाजार में तेजी के चलते कई किसान उपज लेकर उपार्जन केंद्रों पर नहीं पहुंच रहे हैं। संबंधित किसान बाजार के मंडी भाव पर नजर रख रहा है।

हमने पंजीयन नहीं कराया
^पूरी जमीन में गेहूं की फसल लगाई गई थी। 27 अप्रैल को मोबाइल पर संदेश चना लाने के लिए मिला। यह देखकर आश्चर्य हुआ है।
-हीरालाल पाटीदार, झरनखेड़ा
मसूर बोई ही नहीं थी
हमने मसूर जब बोया ही नहीं तो फिर उपज लेकर जाने का सवाल ही नहीं होता।
-बंसीलाल, कोलूखेड़ी
पटवारी ने नहीं सुधारी गलती
इस फसल को हटाने के लिए कई बार संबंधित पटवारी के पास गए थे लेकिन पटवारी ने चना फसल नहीं हटाई।
-अखलेश पाटीदार, झरखेड़ा
किसान गलत बोल रहे हैं
किसानों के खेत को देखकर भौतिक सत्यापन कर पोर्टल पर फसल चढ़ाई जाती है। किसानों का यह कहना गलत है ।
-अतुल शर्मा, तहसीलदार

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- किसी भी लक्ष्य को अपने परिश्रम द्वारा हासिल करने में सक्षम रहेंगे। तथा ऊर्जा और आत्मविश्वास से परिपूर्ण दिन व्यतीत होगा। किसी शुभचिंतक का आशीर्वाद तथा शुभकामनाएं आपके लिए वरदान साबित होंगी। ...

    और पढ़ें