3 किमी का रास्ता बदहाल:वाहन चालक भी अनियंत्रित होकर हो रहे घायल, सुधार की मांग

सिलवानी3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बदहाल सड़क के कारण वाहन चालक भी अनियंत्रित होकर हो रहे घायल,घर की जगह पहुंच रहे अस्पताल - Dainik Bhaskar
बदहाल सड़क के कारण वाहन चालक भी अनियंत्रित होकर हो रहे घायल,घर की जगह पहुंच रहे अस्पताल
  • पूर्व में सीएम हेल्पलाइन 181 पर कई बार शिकायत की जा चुकी है, लेकिन कोई समाधान नहीं किया गया
  • अब आंदोलन की बना रहे रणनीति, जरूरत पड़ी तो करेंगे आगामी चुनावों का बहिष्कार

भले ही सरकार ने जहां सड़क वहां समृद्ध का नारा दिया हो और सीएम गांव-गांव सड़कों का जाल बिछाने का दावा कर रहे हों, लेकिन सिलवानी तहसील के भटपुरा गांव पहुंच मार्ग सरकार और सीएम के दावों की हकीकत बयां कर रहा है। मुख्य मार्ग से लेकर गांव तक पहुंचने के लिए 3 किमी का रास्ता है, जो बारिश में दलदल में तब्दील हो गया है। हालत यह है कि यहां से पैदल निकलने पर ग्रामीणों के पैरों में आसपास लगे बबूल के पेड़ों से गिर रहे कांटे चुभ रहे हैं, वहीं वाहन भी कभी हवा निकलने तो कभी कोई ओर परेशानी आने पर चालक अनियंत्रित होकर घायल हो हरे हैं, लेकिन जनप्रतिनिधियों की उपेक्षा के शिकार ग्रामीणों से भास्कर टीम ने बात की तो अफसर और जनप्रतिनिधियों के खिलाफ आक्रोश फूट पड़ा।

ग्रामीणों ने आपबीती सुनाते हुए बताया कि भटपुरा गांव में सड़क तो दूर मूलभूत सुविधाओं का अभाव बना हुआ है। विधायक से लेकर अफसरों और सीएम हैल्पलाइन पर शिकायत कर आवेदन दिए, लेकिन कहीं कोई सुनवाई नहीं हुई। अब समृद्ध गांव बनाने के लिए चरणबद्ध आंदोलन चलाएंगे। ज़रुरत पड़ी तो आगामी चुनावों का बहिष्कार किया जाएगा। ग्रामीण राजकुमार, रामसागर, जावेद, विजय, विपिन कुमार ने बताया कि बारिश में कोई बीमार हो जाए तो यहां से वाहन निकलना मुश्किल होता है। मजबूरन ग्रामीणों को खाट पर मरीज को लिटाकर मुख्य मार्ग तक चार पांच लोग लेकर आते हैं जिसके बाद यहां से किसी वाहन से अस्पताल तक लाया जाता है, लेकिन अब भी जनप्रतिनिधियों की उपेक्षा के शिकार ग्रामीणों को होना पड़ रहा है।

ग्रामीण बोले- न विधायक न अफसर कर रहे सुनवाई, रद‌्दी की टोकरी में डाल दिए ज्ञापन, हालत बद से बदतर

ग्रामीण बाेले- सड़कों पर कीचड़ होने से लग ही नहीं रहा कि हम 2021 में रह रहे

गांव का यह रास्ता कच्चा होने के कारण बारिश में दलदल में तब्दील हो जाता है हालत यह है कि घुटने-घुटने कीचड़ होने के अलावा मार्ग पर पानी भर जाता है जिससे यहां से निकलना मुश्किल हो जाता है। दिन के समय भी यहां से सामान्य रूप से निकलना मुश्किल हो जाता है। गांव के ही सुरेश सिंह, विजय, सूरज आदि ने बताया कि सड़क को लेकर लगता ही नहीं कि वह 2021 में रह रहे हैं, बारिश के दौरान ऐसा प्रतीत लग रहा है जैसा अब भी आजादी से पहले की तरह गंदगी में रहने पर मजबूर होना पड़ रहा है ।

बोर्ड पर जानकारी भी निर्माण एजेंसी ने अंकित नहीं की है

मुख्यमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत निर्माण एजेंसी द्वारा भटपुरा रोड से एसएच-15 संपर्क ग्राम योजना सड़क की लंबाई 3.01 है। ठेकेदार द्वारा न ही सड़क की लागत राशि लिखी गई है और न ही स्वीकृति दिनांक अंकित की गई। यहां तक की लगाए गए बोर्ड पर निर्माण एजेंसी का नाम तक नहीं दर्शाया गया, जिससे ग्रामीणों को यह भी नहीं पता कि पहले इस सड़क का निर्माण किसने किया है।

निर्माण के समय आपत्ति करना थी

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कहते है कि मैंने गांव-गांव सड़क बना दी और हमारे यहां की सड़क देखो। मरीजों को खाट पर लिटाकर घुटने-घुटने कीचड़ में तीन किलोमीटर पैदल चलकर सांईखेड़ा जोड़ तक आना पड़ता है। बच्चे कोचिंग नहीं जा पाते है, यदि कोई रात में ग्रामीण बीमार हो जाता है पूरे गांव के लोग एकत्रित होकर कंधाें पर लेकर उपचार कराने लाना पड़ता है। हमें नहीं पता कि मुख्यमंत्री ऐसी सड़क बनवाएंगे नहीं तो निर्माण के समय ही आपत्ति कर देते।
-सुरेश रघुवंशी, ग्रामीण भटपुरा।

अफसरों को भटपुरा गांव नहीं पता

सांईखेड़ा से भटपुरा तक का रोड ग्रेवल मार्ग करीब चार साल पूर्व बनाया गया था। सिलवानी के अधिकारियों को यह मालूम नहीं है कि सिलवानी विकासखंड में भटपुरा गांव कहां है। सिर्फ एक भटपुरा ग्राम ही ऐसा है जहां जाने के लिए सड़क नहीं है। कई बार बच्चों को लाने में बच्चे गिरकर घायल हो जाते है। पूर्व में सीएम हेल्पलाइन 181 पर कई बार शिकायत की जा चुकी है, लेकिन कोई समाधान नहीं किया गया।
-विनोद कुमार रावत, ग्रामीण भटपुरा

आरईएस को लिखा है पत्र

सांईखेड़ा से भटपुरा पहुंच मार्ग अति वर्षा के कारण क्षतिग्रस्त हो गया है। यह सड़क आरईएस विभाग के द्वारा बनाई गई थी। यह सही है कि सड़क नहीं होने के कारण ग्रामीणों आना जाना प्रभावित हुआ होगा। अति इमरजेंसी सेवाएं अस्पताल, स्कूल तथा सिलवानी आने जाने में परेशानी हो रही है, इसलिए मैंने तत्काल जिला सीईओ व एसडीओ आरईएस को पत्र लिखकर सड़क निर्माण करवाने का निवेदन किया है।
-संजय नागवंशी, तहसीलदार सिलवानी।

खबरें और भी हैं...