पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

इतनी बेफक्री :कहीं फिर से घरों का कैदी न बना दे हमें

विदिशा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 59 दिन बाद जब पूरा बाजार खुला तो जिले में दिखी कोरोना संक्रमण बढ़ाने और हमें डराने वाली ये तस्वीर
  • सुबह 11 बजे दुकानें खोलते ही देवी-देवताओं की पूजा कर की प्रार्थना
Advertisement
Advertisement

लॉकडाउन-4 में दी जाने वाली छूट से बुधवार को शहर का बाजार पूरी तरह खुल गया। 22 मार्च के बाद पहली बार इतने लंबे समय के लिए बाजार खुला। बर्तन, सराफा, रेडिमेड, कपड़ा, जूते आदि की दुकानें पहली बार खुलीं। दोपहर में चहल पहल अच्छी खासी रही। मुख्य बाजार में तो जाम की स्थिति बन गई।  सुबह  जैसे ही 11 बजे दुकानदारों ने फटाफट दुकानें खोल ली और देवी-देवताओं की तस्वीरों के समक्ष पूजा-अर्चना की। 
दोबारा लॉकडाउन नहीं लगे इसकी कामना भी की। वहीं, मिष्ठान भंडारों, चाय-ठंडे, गन्ने एवं अन्य फलों के जूस कॉर्नर, चाट-पकोड़े की दुकानें खुल गईं। बाजार खुलने से बुधवार को बाजार में रौनक लौट आई। लोग कपडा, मनियारी तथा अन्य सामान खरीदने के लिए बाजार में पहुंचे। हालांकि पुलिस प्रशासन के अधिकारियों ने लगातार नजर बनाए रखी, लेकिन रोकटोक नहीं होने से बाजार में आए लोगों के चेहरे खिले नजर आए। 
फिजिकल डिस्टेंसिंग भूल गए दुकानदार और ग्राहक
बाजार में कॉस्मेटिक शॉप्स और रेडीमेड पर भीड़: बाज़ार में लगभग सभी दुकानें खुली तो खुली लेकिन प्रशासन के निर्देशों का पालन इक्का दुकानदारों ने ही किया। दोपहर को बाजार में भीड़ बढ़ी तो तहसीलदार और सीएसपसी पहुंचे। मुख्य बाजार में वाहनों के जमघट पर सीएसपी ने नाराजगी जाहिर की। 
ठेले खड़े रहे शाम तक: सब्जी ठेले दोपहर में 1 बजे तक खड़े होना चाहिए लेकिन बांसकुली, शिवाजी चौक क्षेत्र में ठेले शाम 7 बजे तक खड़े रहते हैं। उन पर कोई कार्रवाई नहीं की गई।
बाजार में निकले नपाध्यक्ष और वरिष्ठ व्यापारी: नगर पालिका अध्यक्ष मुकेश टंडन द्वारा माधवगंज से बड़े बाजार तक मुख्य बाजार में जागरुकता के लिए एनाउंसमेंट किया। व्यापारियों और आम जनता से फिजिकल डिस्टेसिंग रखने और मास्क लगाकर ही घर से निकलने की अपील की गई। इस अवसर पर राजेश जैन, घनश्याम बंसल, देवराज अरोरा आदि मौजूद रहे। 
मैं बाजार हूं, 59 दिन बाद पूरी तरह खुला हूं, लेकिन एक चूक हुई तो फिर बंद हो जाऊंगा
मैं बाजार हूं। कोई भी दिन हो, मौका हो, मेरे यहां हर समय रौनक रहती थी। लोग मेरे पास आकर खुश होते थे। खाते थे, पीते थे, खूब शॉपिंग करते थे। अपने सब दुख-दर्द भूल जाते थे। पहली बार ऐसा हुआ, जब लगातार 59 दिन तक मैं बंद रहा। कारण, देशभर में कोविड-19 फैल गया था। लॉक डाउन 4.0 के बाद कुछ राहत मिली। बुधवार से मेरे यहां फिर से चहल-पहल शुरू हो गई। जिन सड़कों पर सन्नाटा रहता था, वहां गाड़ियां दौड़ रही थी। सबसे ज्यादा खुश वो व्यापारी नजर आए, जो घरों में फंसे थे। लेकिन एक अपील करना चाहता हूं। संक्रमण अभी खत्म नहीं हुआ है। से चूक हुई तो हमारा जिला ग्रीन से रेड जोन में बदल जाएगा और मैं फिर बंद हो जाऊंगा।’
 ( बाजार की कहानी विदिशा व्यापार महासंघ के पूर्व महामंत्री घनश्याम बंसल के शब्दों में)

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज आप कई प्रकार की गतिविधियों में व्यस्त रहेंगे। साथ ही सामाजिक दायरा भी बढ़ेगा। कहीं से मन मुताबिक पेमेंट आ जाने से मन में राहत रहेगी। धार्मिक संस्थाओं में सेवा संबंधी कार्यों में महत्वपूर्ण...

और पढ़ें

Advertisement