जनसुनवाई में पटवारी की शिकायत:एसडीएम से किसान बोला- पटवारी दे रहा जान से मारने की धमकी

विदिशाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शिकायतकर्ता किसान मनीभाई अहिरवार। - Dainik Bhaskar
शिकायतकर्ता किसान मनीभाई अहिरवार।

विदिशा जिले के ग्यारसपुर में एक ऑडियो सामने आ रहा है, जिसमें एक किसान को संबंधित हल्का पटवारी जान से मारने एवं मां बहन की गालियां दे रहा है।

शिकायतकर्ता मनीभाई अहिरवार ने इसी मंगलवार को जनसुनवाई में आवेदन देकर शिकायत की है कि मैंने पंजीयन प्रमाण-पत्र पर साइन करवाने के लिए फोन लगाया तो बंडवा के पटवारी ने मुझे जान से मारने एवं मां-बहन की गालियां दीं। इसकी शिकायत मैंने शनिवार को एसडीएम से की है। उनका कहना है कि संबंधित पटवारी के ऊपर वैधानिक कार्रवाई की जाएगी।

इस ऑडियो में ग्यारसपुर की तहसील गुलाबगंज के पटवारी हल्का नंबर 32 बंडवा गांव के पटवारी कुलदीप बागरी के द्वारा किसान को फोन पर जान से मारने एवं गालियां दी हैं।

किसान ने बताया कि एसडीएम को आवेदन देते समय उन्होंने आश्वासन दिया है कि मैं इसकी जांच करवाकर संबंध पटवारी के ऊपर वैधानिक कार्रवाई की जाएगी।

किसान का कहना है जब मैंने अपने फोन से फोन लगाया तो उन्होंने फोन नहीं उठाया जब दूसरे के मोबाइल से फोन लगाया तो पटवारी ने फोन उठाया और मैंने उनसे कहा कि मुझे पंजीयन प्रमाण-पत्र पर साइन करवाना है। तो पटवारी ने कहा कि मैं दिवाली के बाद करूंगा।

पीड़ित किसान ने कहा- 2 दिन बात करोगे तो मुझे सब्सिडी नहीं मिलेगी। इस पर पटवारी ने कहा कि मैं साइन नहीं कर पाऊंगा। इसकी पूरी रिकॉर्डिंग शिकायतकर्ता के मोबाइल में रिकॉर्डिंग हो गई। कहीं न कहीं इस प्रकार का रवैया पटवारी का अशोभनीय है। किसान आज वैसे ही तो डीएपी और यूरिया की किल्लत से परेशान हैं। उसकी बुवाई का समय निकलता जा रहा है, परंतु समय पर पर्याप्त मात्रा में खाद न मिलने से हैरान-परेशान वहीं सरकार कृषि यंत्र एवं पानी के पाइप ऊपर किसानों को सब्सिडी देती है।

उसी सब्सिडी के लिए किसान ने पंजीयन प्रमाण पत्र पर साइन करने के लिए फोन लगाया था, परंतु किसान को क्या मालूम कि पटवारी द्वारा मर्यादाहीन शब्दों का प्रयोग कर उनकी मान-मर्यादा को ठेस पहुंचाए गए। वहीं जान से मारने की धमकी दी। किसान ने आवेदन देते हुए कहा कि संबंधित पटवारी कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाए।

इस संबंध में जब ग्यारसपुर एसडीमए बृजेन्द्र रावत से बात की तो उन्होंने बताया कि जैसे ही उन्हें शिकायत प्राप्त हुई है। वैसे ही तत्काल पटवारी को हल्का से तत्काल हटाकर दूसरे पटवारी को चार्ज दे दिया गया है और तहसीलदार को मामले की जांच करने आदेश दे दिए हैं।

खबरें और भी हैं...