मशक्कत का सामना:नकद भुगतान के लिए सहकारी बैंक की शाखाओं में उमड़ रही किसानों की भीड़, संक्रमण का खतरा

विदिशा6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सोशल डिस्टेंसिंग के ही लाइन में लगे हुए थे।

समर्थन मूल्य पर गेहूं और चना बेचने के बाद किसानों को अब बैंकों से नकद भुगतान लेने में खासी मशक्कत का सामना करना पड़ रहा है। विदिशा शहर में जिला सहकारी बैंक की मेन ब्रांच और राजीवनगर इलाके में स्थित सहकारी बैंक की ठर्र शाखा में इन दिनों सुबह से लेकर शाम तक सैकड़ों किसानों की भीड़ उमड़ रही है। बुधवार को सहकारी बैंक की मेन ब्रांच में बैंक के अंदर से लेकर बाहर तक लंबी कतार लगी हुई थी। कई किसान तो बिना सोशल डिस्टेंसिंग के ही लाइन में लगे हुए थे।

इसी प्रकार ठर्र ब्रांच में बैंक के भीतर काउंटर से लेकर सड़क तक किसानों की भीड़ उमड़ पड़ी थी। यहां भी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं हो रहा था। लगातार भीड़ उमड़ने से ण

नकद भुगतान संभव नहीं: जिला सहकारी बैंक के सीईओ विनयप्रकाश सिंह ने कहा कि किसानों का भुगतान बैंकों से ही किया जाएगा, क्योंकि यहीं पर उनका खाता है। गांव की सोसायटियों से समर्थन मूल्य पर बेचे गए अनाज का नकद भुगतान संभव नहीं है। इसमें तकनीकी समस्या है। हमारे पास मेन पावर की भी कमी चल रही है।

खबरें और भी हैं...