अन्न उत्सव:अरुणाचल में हेलीकॉप्टरों से पहुंचाना पड़ता है खाद्यान, अरुणाचल के खाद्य मंत्री कामलुंग मोसांग ने मध्य प्रदेश को बताया बेहतर

विदिशा3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जिला स्तरीय कार्यक्रम ग्राम इमलिया में बोलते कामलुंग मोसांग। - Dainik Bhaskar
जिला स्तरीय कार्यक्रम ग्राम इमलिया में बोलते कामलुंग मोसांग।

जिले भर में शनिवार को प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत अन्न उत्सव के आयोजन हुए। इमलिया में हुए जिला स्तरीय कार्यक्रम में अरूणाचल प्रदेश के खाद्य मंत्री कामलुंग मोसांग सहित विधायक एवं स्टेट जनरल सेकेट्री भाजपा चाउ जिगनु नामचूम व खाद्य विभाग के अतिरिक्त सचिव लियान बोरंग भी शामिल हुए। कार्यक्रम में अरुणाचल के खाद्य मंत्री मोसांग ने कहा कि अरूणाचल प्रदेश भौगोलिक दृष्टि से महत्वपूर्ण है। वहां बीस से पच्चीस किलोमीटर की दूरी में लोगों के घर देखने को मिलते है। लोगों को योजना का लाभ लेने के लिए काफी दूरी का सफर करना पड़ता है, वह भी ट्रैक्टरों से संभव है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश इस मामले में हमारे राज्य से बेहतर है। यहां के हितग्राहियों को योजना का लाभ लेने के लिए ज्यादा दूरी का सफर नहीं करना पडता है। जबकि अरूणाचल प्रदेश में कई क्षेत्रों में खाद्यान्न की आपूर्ति के लिए हेलीकॉप्टरों तक की मदद ली जाती है।

कार्यक्रम में विदिशा सांसद रमाकांत भार्गव ने कहा कि जिले में अगले कुछ दिनों में सभी उचित मूल्य की दुकानों से 2.22 लाख से अधिक परिवारों को निशुल्क राशान वितरण किया जाएगा। विदिशा नगरपालिका के पूर्व अध्यक्ष मुकेश टंडन ने भी संबोधित किया। अरूणाचल प्रदेश के खाद्य मंत्री ने इमलिया की प्राथमिक कृषि साख सहकारी समिति मर्यादित परिसर में आम का पौधा भी रोपित किया है। कार्यक्रम में भाजपा जिला अध्यक्ष राकेश जादौन, कलेक्टर डॉ पंकज जैन, पुलिस अधीक्षक विनायक वर्मा सहित आदि मौजूद रहे।

राशन न मिलने से जताई नाराजगी

जिले की सभी 564 उचित मूल्य दुकानों पर उत्सव के रूप में हुए कार्यक्रमों में पात्र परिवारों को 10 किलो ग्राम राशन थैले में रखकर वितरित की गई। कुछ जगहों पर राशन न मिलने से लोगों ने नाराजगी भी जताई। जिला मुख्यालय पर ही स्वर्णकार कालोनी में रखे गए कार्यक्रम में राशन न मिलने से नाराज कई लोगों ने गुस्सा जाहिर किया। सुबह से राशन की उम्मीद में बैठे कई लोगों को निराश होकर लौटना पड़ा।

खबरें और भी हैं...