पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

सर्व पितृ अमावस्या आज:भूले-बिसरे पूर्वजों का श्राद्ध आज कर सकते हैं

विदिशा10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

सर्व पितृ अमावस्या गुरुवार को पड़ रही है। पंडित विनोद शास्त्री का कहना है कि पुराणों में कहा गया है कि अश्विन महीने की अमावस्या पर पितृ पिंडदान और तिलांजलि चाहते हैं। उन्हें यह नहीं मिलता तो वे अतृप्त होकर ही चले जाते हैं। इससे पितृदोष लगता है। श्री शास्त्री ने बताया कि मृत्यु तिथि पर श्राद्ध करने के बाद भी अमावस्या पर जाने-अनजाने में छुटे हुए सभी पीढ़ियों के पितरों को श्राद्ध के साथ विदा किया जाना चाहिए। इसी को महालय श्राद्ध कहा जाता है। इसलिए इसे पितरों की पूजा का उत्सव यानी पितृ पर्व कहा जाता है। जो व्यक्ति पितृपक्ष के 16 दिनों तक श्राद्ध तर्पण आदि नहीं करते हैं वे अमावस्या को ही अपने पितरों के निमित्त श्राद्ध करते हैं और जिन पितरों की तिथि याद नहीं हो उनके निमित्त श्राद्ध तर्पण दान आदि इसी अमावस्या को किया जाता है। अमावस्या के दिन सभी पितरों का विसर्जन होता है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय की गति आपके पक्ष में हैं। आपकी मेहनत और आत्मविश्वास की वजह से सफलता आपके नजदीक रहेगी। सामाजिक दायरा भी बढ़ेगा तथा आपका उदारवादी रुख आपके लिए सम्मान दायक रहेगा। कोई बड़ा निवेश भी करने के लिए...

और पढ़ें