पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Vidisha
  • Non violence Is Paramount In The Jain Tradition, From Which Comes A Sense Of Potentiality In Living Beings: Samata Sagar

प्रवचन की पाठशाला:जैन परंपरा में अहिंसा सर्वोपरि, इससे ही जीवों में संभाव की भावना आती है: समता सागर

विदिशाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • ऑनलाइन जैन तत्व बोध कक्षा को संबोधित करते हुए मुनिश्री ने विद्यार्थियों को कहा-

जैन परंपरा में अहिंसा सर्वोपरि है। इसलिए अहिंसा को परमो धर्म कहा गया है। राग का अभाव ही वीत रागता है एवं यह इंसान को अहिंसक बनाता है। अहिंसा से ही सभी जीवों में समभाव की भावना आती है। उपरोक्त उद्गार मुनि समता सागर महाराज ने शीतलधाम में आयोजित ऑनलाइन जैन तत्व बोध की कक्षा को संबोधित करते हुए कहे। उन्होंने युवाओं को संबोधित करते हुए कहा कि जो विद्यार्थी परीक्षा की जिंदगी जीता है वही जिंदगी की परीक्षा में सफल होता है। जो सन्यासी दीक्षा लेकर अपनी समीक्षा स्वयं करते हैं वे ही जिन शासन की प्रभावना कर पाते हैं। मुनि श्री ने कहा कि एक साधक मंत्रों और साधना के माध्यम से स्वयं की रक्षा तो करते ही हैं। साथ ही संपूर्ण राष्ट्र के प्रति भी उनकी सद भावना रहती है। उन्होंने कहा कि जीव रक्षा के निमित से पिच्छिका एक मुनिराज के पास 24 घंटे साथ में रहना आवश्यक है। यह दिगंबर मुनियों की पहचान है। उन्होंने कहा कि यह संयम का उपकरण है। यह भले ही वजन में हल्की है। मुनि श्री ने एक प्रश्न के उत्तर में कहा कि वर्ष 1945 में श्री गणेश प्रसाद वर्णी ने जबलपुर की एक सार्वजनिक सभा में सहयोग की भावना से अपना दुपट्टा आजाद हिंद सेना को सौंपा। इसको समाज ने बोली लगाकर तीन हजार रुपए पंडित द्वारका प्रसाद को जो कि सभा की अध्यक्षता कर रहे थे उनको सौंपे।

कोरोना से मिले मुक्ति, इसलिए की जा रही है प्रार्थना
श्री शीतल विहार न्यास के प्रवक्ता तथा चातुर्मास कमेटी के मीडिया प्रभारी अविनाश जैन ने बताया विश्व में कोरोना रोग से शांति स्थापित हो इस मंगल भावना से प्रतिदिन बर्रो वाले बाबा भगवान आदिनाथ की शांति धारा मुनि समता सागर एवं ऐलक निश्चय सागर महाराज के संघ सानिध्य में संपन्न हो रही है। इसके अलावा बताया कि गुरुवार को अष्टमी तिथी को 64 रिद्धि विधान का आयोजन किया गया। मुनि श्री ने निर्जल उपवास कर विशेष साधना की। इसमें ब्रह्मचारी अनूप भैया, बबीता दीदी, इन्द्रा, अशोक जैन, शशि, अविनाश जैन, चंद्रप्रभा, केके जैन, सप्पी जैन, जैसी नगर जयंती जैन, राजकुमार जैन, शकुन जैन ने भाग लिया। मुनि श्री से आशीर्वाद लेते हुए निर्मल कुमार रिटायर्ड चीफ बुकिंग पार्सल ने अपने पुत्र राजीव, सुनील, सुधीर, प्रदीप मेंम साब परिवार द्वारा श्री समवसरण मंदिर की मूर्ति पेटे पांच लाख रुपए का चेक न्यास के अध्यक्ष वसंत जैन को सौंपा।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- पिछले कुछ समय से आप अपनी आंतरिक ऊर्जा को पहचानने के लिए जो प्रयास कर रहे हैं, उसकी वजह से आपके व्यक्तित्व व स्वभाव में सकारात्मक परिवर्तन आएंगे। दूसरों के दुख-दर्द व तकलीफ में उनकी सहायता के ...

और पढ़ें