सरपंच पति की हत्या:दबंगों की दहशत; बंदूक दिखाई, तलवारें लहराईं, गवाही देने पर हत्या की धमकी दी

विदिशा/लटेरी7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
धरने पर बैठे विधायक। - Dainik Bhaskar
धरने पर बैठे विधायक।

लटेरी के मुरवास पंचायत की सरपंच आशादेवी के पति संतराम धौलपुरिया पुत्र सुंदरलाल को वन माफिया ने गुरुवार दोपहर में ट्रैक्टर से कुचलकर मार डाला। इस घटना के बाद सिरोंज विधायक उमाकांत शर्मा ने आरोप लगाया कि है इस मामले में थाना प्रभारी ने कोई मदद नहीं की।

संतराम मौके पर तड़प रहे थे, लेकिन उनकी मदद करने की जगह वे आरोपी को बचाने में लगे थे। क्षेत्रीय विधायक उमाकांत शर्मा अपने कार्यकर्ताओं के साथ पहुंचे और मुरवास थाने का घेराव किया। विधायक का आरोप था कि सोची समझी साजिश के तहत हत्या की गई।

बताया जा रहा है कि हत्या के बाद आरोपियों ने क्षेत्र के लोगों को धमकाने के लिए तलवारें लहराईं और बंदूकें दिखाईं ताकि लोगों में दहशत हो। विधायक उमाकांत शर्मा का आरोप है कि आरोपियों ने तलवारों और बंदूकें लेकर चश्मदीदों को धमकाया गया। साथ ही लोगों को गवाही देने पर हत्या की धमकी दी गई है।

लटेरी एसडीएम ने मामले को मध्य नजर रखते हुए पूरे ब्लाॅक में धारा 144 लागू कर दी है। ये घटना उस समय हुई जब सरपंच पति मुरवास के पंचायत भवन से भैरो चौक की तरफ जा रहे थे, तभी दोपहर 2 बजे ब्लेड लगे ट्रैक्टर को चलाते हुए रिजवान पुत्र फकीर मोहम्मद और 3 अन्य साथी ने उनकी बाइक को टक्कर मार दी। और उस समय तक ट्रैक्टर चलाते रहे जब तक वे पूरी तरफ दम न तोड़े। उनकी घटना स्थल पर ही मौत हो गई।

शिकायत की वजह से सरपंच पति से थी रंजिश
संतराम ने गांव के वन माफिया फकीर मोहम्मद एवं उनके पुत्र इरफान, रिजवान, उमर, फारूक के अलावा हीरो इरफान पुत्र जहूर खान, शकील पुत्र सईद खां आदि अन्य लोगों की अफसरों से शिकायत की थी। संतराम का आरोप था कि फकीर मोहम्मद के परिजनों के अलावा इनके परिवार के अन्य सदस्यों ने वन विकास निगम की सैकड़ा बीघा जमीन पर अतिक्रमण कर लिया है।

इस मामले की शिकायत उन्होंने 10 सितंबर 2020 में कलेक्टर डॉ. पंकज जैन से की थी। कलेक्टर ने इस शिकायत पर कार्रवाई के लिए लटेरी एसडीएम को पत्र भेजा था। शिकायत की वजह से वन माफिया उनसे रंजिश रखे हुए था।

100 बीघा से ज्यादा जमीन पर है अतिक्रमण
वन माफिया फकीर मोहम्मद एवं उनके परिजनों का करीब 100 बीघा से ज्यादा जमीन पर अतिक्रमण है। इसकी शिकायत संतराम ने कलेक्टर से लेकर कई अफसरों से की थी। फकीर की वन विकास निगम में पैठ है। उनका पुत्र उमर वन विकास निगम में चौकीदार है।

संतराम का आरोप था कि निगम के रेंजर संतोष दुबे, नाकेदार पंकज आदि शिकायत के बाद फकीर को जानकारी दे देते थे।

कलेक्टर ने अफसरों को जांच के दिए थे आदेश
कलेक्टर डॉ पंकज जैन ने बताया कि संतराम ने कई स्तर पर अतिक्रमण और अन्य बिंदुओं की शिकायत की थी। इस संबंध में वन विकास निगम के डिवीजनल मैनेजर आदर्श श्रीवास्तव को 28 जनवरी को बुलाकर कार्रवाई की बात कही थी। डिवीजनल मैनेजर ने अपने अधिकारियों को कार्रवाई के लिए 9 मार्च को पत्र भेजा था। इसके बाद 16 मार्च से कार्रवाई के लिए दल गठित किया गया था।

वाल्मीकि समाज आज करेगा प्रदर्शन
वाल्मीकि समाज के संतराम की मौत के बाद 19 मार्च को लोग प्रदर्शन करेंगे। सुबह 10.30 बजे समाज के लोग कलेक्टर को ज्ञापन देकर आरोपियों पर कार्रवाई की मांग करेंगे।

संतराम तड़पते रहे, टीआई आरोपी को बचाकर ले गए
संतराम मौके पर तड़पते रहे। वहीं थाना प्रभारी आए और आरोपी को बचाकर ले गए। ताकि नाराज लोग हत्या के बाद आरोपी के साथ मारपीट ना कर दें। पुलिस की लापरवाही से ये बर्बर हत्या हुई है।-उमाकांत शर्मा, विधायक

आरोपी को नहीं बचाया, उसे पकड़ कर ले गया
थाने की दूरी करीब 400 मीटर है। मैंने आरोपी को नहीं बचाया। मेरे ऊपर गलत आरोप लगाए जा रहे हैं। उसे पकड़कर ले गया।-अनिरुद्ध पांडे, थाना प्रभारी, लटेरी

अभी तक एक आरोपी को गिरफ्तार किया है
संतराम को ट्रैक्टर से टक्कर मारी गई। इस वजह से उनकी मौत हो गई। इस मामले में एक आरोपी रिजवान को गिरफ्तार किया गया है।-विनायक वर्मा, एसपी, विदिशा

खबरें और भी हैं...