पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Vidisha
  • The Farmers Said By Paying Obeisance At The Hanuman Temple Our Crops Were Ruined, Harvesting Too Expensive, Now How To Arrange The Next Crop

भगवान के पास अर्जी:हनुमान मंदिर में मत्था टेककर किसान बोले- हमारी फसलें हुईं बर्बाद, कटाई भी महंगी, अब कैसे करें अगली फसल का इंतजाम

विदिशा8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • जावती गांव के किसानों ने सोयाबीन खराब होने पर मुआवजा नहीं मिलने पर जताई नाराजगी

जावती गांव के किसानों ने सोयाबीन की खराब हुई फसल को लेकर मंगलवार को हनुमान मंदिर में भगवान से अर्जी लगाई। शासन-प्रशासन से तंग आकर एवं बीमा मुआवजा नहीं मिलने से परेशान किसान हताश होकर गांव के ही प्राचीन श्री हनुमान मंदिर पर अपनी खराब हुई फसल को लेकर पहुंचे। वहां पर किसानों ने भगवान हनुमान से फसलों की खराब स्थिति पर ध्यान देने की अर्जी की। साथ ही अर्जी में बताया कि यही समय खेतों में साफ सफाई करने का है। इससे कि अगली फसल की तैयारी की जा सके। सोयाबीन की फसल पूरी तरह बर्बाद हो चुकी है। मजदूरी के रेट भी ज्यादा हैं। किसान कहां से ये सारी व्यवस्थाएं करें। अर्जी लगाते समय में गांव के किसान ब्रजेश श्रीवास्तव, जुझार सिंह राजपूत, कमल सिंह कुशवाह, श्रीराम कुशवाह, दीमान सिंह धाकड, ओम साहू सहित अन्य किसान शामिल हुए। गांव के युवा संजीव कुशवाह ने बताया कि इस समय किसानों की स्थिति काफी दयनीय हे। कई किसान तो अपने खेतों में खड़ी सोयाबीन की फसल को मवेशियों के हवाले करने के बारे में मन बना रहे हैं।

सोयाबीन की कटी हुई फसल को पानी ने पहुंचाया नुकसान
ग्यारसपुर में सोमवार को 8.2 सेमी बारिश हुई। क्षेत्र में किसान अपनी सोयाबीन की फसल को काटने में व्यस्त हैं लेकिन बारिश से फसलें और खराब कर दी। किसी तरह खेत सूखे तो किसानों ने सोयाबीन की कटाई शुरु की थी। बारिश से खेतों में पानी भर गया। साथ ही कटी हुई फसल भी पूरी तरह से भीग गई। अब किसानों को चिंता सता रही है कि फसल पूरी तरह से बर्बाद हो गई, अब आगे क्या होगा।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय की गति आपके पक्ष में रहेगी। सामाजिक दायरा बढ़ेगा। पिछले कुछ समय से चल रही किसी समस्या का समाधान मिलने से राहत मिलेगी। कोई बड़ा निवेश करने के लिए समय उत्तम है। नेगेटिव- परंतु दोपहर बाद परिस...

और पढ़ें