देवपुर में मकर संक्रांति:विश्वनाथ के दरबार में जलकुंड पर बेरिकेडिंग मेला नहीं लगा लेकिन हाइवे पर सजीं दुकानें

विदिशा3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
तीनाें जलकुंड के आसपास बेरिकेडिंग लगवाई। - Dainik Bhaskar
तीनाें जलकुंड के आसपास बेरिकेडिंग लगवाई।
  • प्रशासन ने भीड़ न जुटे ऐसे दिए निर्देश, लेकिन तैयारियाें में कमी , नतीजा: उमड़े श्रद्धालु

प्रशासन ने जिलेभर में संक्रांति के मेलों पर रोक लगाई है लेकिन इसके लिए कोई तैयारी नहीं की है। इसलिए लोग नदियों और पवित्र कुंड पर स्नान के लिए काफी संख्या में जुट सकते हैं। विदिशा के चरणतीर्थ, बड़वाले घाट, महलघाट, रामघाट और बाबा बहरा घाट पर काफी संख्या में श्रद्धालु स्नान के लिए संक्रांति पर पहुंचते हैं। वहीं गंजबासौदा के बेतवा के रिपटा घाट, बरेठ के पास जालपा घाट और गमाखर गांव के सतधारा घाट पर श्रद्धालु जुट सकते हैं। बेतवा के इन घाटों पर शुक्रवार को भी काफी लोग पहुंचे।

इस संबंध में कलेक्टर उमाशंकर भार्गव ने स्थानीय एसडीएम, तहसीलदार और थाना प्रभारियों को पत्र भेजकर मेले निरस्त की जानकारी दी है। साथ ही भीड़ न जुटे इसके इंतजाम करने के निर्देश दिए हैं। इसके बाद भी शुक्रवार को भीड़ जुटना शुरू हो गई थी। बाबा विश्वनाथ के दरबार में जलाभिषेक एवं पूजा करने जा रहे श्रद्धालुओं को भी मास्क लगाने की हिदायत गर्भगृह के बाहर तैनात चौकीदार द्वारा दी जा रही थी। पटवारी, पुलिस के जवान और पंचायत के प्रमुख सिर्फ मंदिरों के आसपास ही सख्ती दिखा रहे थे। सड़क की भीड़ पर किसी का ध्यान नहीं था।

जलकुंड पर चौकीदार तैनात, 3 स्थानों पर स्नान का प्रबंध किया
मकर संक्रांति पर तीर्थ क्षेत्र देवपुर में लगने वाला मेला प्रशासन ने भले ही स्थगित कर दिया है लेकिन तीर्थ क्षेत्र में श्रद्धालुओं का उमड़ना शुरू हो गया है। शुक्रवार को दिनभर तीर्थ क्षेत्र में श्रद्धालु पहुंचे। संक्रांति पर तीर्थ क्षेत्र में स्नान का खासा महत्व माना जाता है और हजारों श्रद्धालु यहां पर स्नान के लिए ही आते हैं। इसी को समझते हुए प्रशासन ने तीर्थ क्षेत्र में स्थित तीनों ही जलकुंड के चारों तरफ मजबूत बेरिकेडिंग करवा कर चौकीदार तैनात किए हैं जो किसी को भी जलकुंड तक नहीं जाने दे रहे। हालांकि स्नान करने आने वाले श्रद्धालु परेशान ना हो इसके लिए तीन स्थानों पर स्नान का प्रबंध किया गया है। दो नल मंदिर के आगे के हिस्से में और 20 से अधिक नल मेला ग्राउंड से सटे के बाहर लगाए गए हैं।

मकर संक्रांति का पुण्यकाल आज 12 बजकर 30 मिनट तक
इस बार सूर्य का मकर राशि में प्रवेश 14 जनवरी की रात 8 बजकर 59 मिनट पर हुआ। इसलिए इसका विशेष पुण्यकाल 15 जनवरी को 12 बजकर 30 मिनट तक माना जा रहा है।

हाइवे पर पहुंची मेले की दुकानें
मेले को लेकर प्रशासन की सख्ती सिर्फ मेला ग्राउंड तक ही दिखाई दी। आसपास के क्षेत्रों से आने वाले दुकानदारों ने मंदिरों के आसपास, मेला ग्राउंड के बाहर और हाइवे पर अपनी दुकाने लगा रखी थी। इन दुकानों पर दिनभर खरीदारों की भीड़ लगी रही।

मेले प्रतिबंधित हैं, सोशल डिस्टेंस की अपील की है
कलेक्टर उमाशंकर भार्गव का कहना है कि क्षेत्र के सभी मेले प्रतिबंधित किए गए हैं। श्रद्धालु मास्क लगाएं और सोशल डिस्टेंस रखें और नियमों का पालन करें। भीड़ नहीं होना चाहिए। प्रशासन सख्ती करेगा, नियमों का उल्लंघन करने पर कार्रवाई तय की जाएगी।

खबरें और भी हैं...