पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

इंजीनियरिंग कालेज:इंटर्नशिप के साथ यूजी-पीजी छात्रों को मिलेगा नई तकनीक सीखने का मौका

विदिशा8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बुधवार को स्थानीय एसएटीआई इंजीनियरिंग कालेज विदिशा एवं भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) के मध्य एमओयू हुआ। इसके तहत एसएटीआई अब एनएचएआई से जुड़कर राजमार्ग के बुनियादी ढांचे की बेहतरी के लिए अपने अनुभव साझा करेगा। साथ ही एनएचएआई द्वारा एसएटीआई के प्राध्यापक, रिसर्च स्कालर एवं विद्यार्थियों को हाइवे-ट्रांसपोर्टेशन सेक्टर में हो रहे नए बदलाव एवं तकनीक से रूबरू होकर इंडस्ट्री एवं इंस्टीट्यूट के मध्य बढ़ते गैप को पूरा करने का मौका मिलेगा।
संस्था संचालक जनार्दन सिंह ने बताया कि एनएचएआई एसएटीआई के 100 यूजी-पीजी विद्यार्थियों को मानदेय के साथ इंर्टनशिप प्रदान करेगा। इसके तहत 7500 रुपए प्रति माह यूजी विद्यार्थियों को एवं 15000 रुपए प्रतिमाह पीजी विद्यार्थियों को मानदेय के रूप में दिए जाएंगे। एसएटीआई अपने विषय विशेषज्ञों द्वारा तकनीकी मार्गदर्शन एनएचएआई को प्रदान करेगा।यह महत्वपूर्ण समझौता भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के रीजनल अधिकारी विवेक जैसवाल एवं संस्था संचालक जनार्दन सिंह के हस्ताक्षर द्वारा आगामी 5 वर्ष के लिये किया गया है। गौरतलब है कि विगत दिनों एसएटीआई का एक और महत्वपूर्ण करार ट्रेंचलैस टेक्नोलॉजी सेंटर लुसियाना टेक यूनिवर्सिटी, रूस्टन, अमेरिका के साथ हुआ है।
रिसर्च, शिक्षण, इनोवेशन में करेंगे सहयोग : डायरेक्टर जनार्दन सिंह ने बताया कि इसके तहत दोनों संस्थान इंजीनियरिंग एवं साइंस के सभी संकाय में रिसर्च, शिक्षण, इनोवेशन, इंडस्ट्री, नवाचार, प्रकाशन आदि में एक दूसरे का परस्पर सहयोग करेंगे। यह करार लुसियाना टेक यूनिवर्सिटी के डायरेक्टर डॉ. जॉन मेथ्यूस के सहयोग से यूनिवर्सिटी के प्रेसीडेंट डॉ. लेस्ली के. गुइस एवं संस्था संचालक के मध्य 5 वर्ष की अवधि के लिए हस्ताक्षरित किया गया है। इस एमओयू से निर्माण सामग्री, प्रौद्योगिकियों और विकसित प्रक्रियाओं के अप-स्केलिंग के क्षेत्रों में अनुसंधान और विकास को सहयोग मिलेगा।

खबरें और भी हैं...