पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

शवों के बोझ से कमजोर हुए परिजन:असमय ही युवा पीढ़ी पर नेतृत्व का संकट, एक परिवार में महज 6 दिन में ही 3 लोगों की मौत

विदिशाएक महीने पहलेलेखक: अरुण त्रिवेदी
  • कॉपी लिंक
  • शहर के 2 परिवारों में 7 लोगों की मौत के बाद

शहर के कई परिवारों पर कोरोना का ऐसा कहर टूटा है जिससे उनका पूरा परिवार ही संकट में आ गया है। परिजनों की मौत के बाद जो लोग घर में बचे हैं, उनके सामने सामाजिक नेतृत्व और मार्गदर्शन का भी संकट खड़ा हो गया है। ऐसे संकट के समय में वे आखिर परिवार को संचालित करने के लिए किसका सहारा लें। विदिशा में 2 ऐसे ही परिवार हैं कोरोना ने जिनके 7 लोगों की जान ले ली है। शहर में इंद्रप्रस्थ कालोनी निवासी थाला वाला परिवार रहता है।

यह परिवार वैसे तो मूलत: गाडरवारा का रहने वाला है लेकिन वर्तमान में इंद्रप्रस्थ कालोनी में रहता है। इस परिवार के मुखिया आदेश जैन ओशो हैं। इनके परिवार में अप्रैल 2021 में महज 6 दिनों में 3 आत्मीय जनों की मौत हो गई। इनमें सबसे पहले कोरोना से 9 अप्रैल को बड़े भाई अवनीश जैन 54 साल की मौत हो गई। इसके 2 दिन बाद 11 अप्रैल को परिवार के मुखिया स्वरूपचंद जैन 85 साल का निधन हो गया। इसके 3 दिन बाद 14 अप्रैल को ही चचेरे जवान भाई सिद्धार्थ जैन का महज 43 साल की उम्र में दुनिया छोड़कर चले जाना सबको कचोट कर चला गया। यह परिवार अभी इस संकट से उबर नहीं सका है।

शहर के प्रतिष्ठित परिवार के डा.पदम जैन सहित 4 लोगों की मौत संक्रमण से हुई है। परिवार की बची युवा पीढ़ी पर अब सामाजिक और परिवार संकट की स्थिति बन गई है। इस परिवार के मुखिया और अरिहंत विहार कालोनी निवासी डा.आशीष जैन ने बताया कि कोरोना के कहर से सबसे पहले 13 अगस्त 2020 को उनके चाचा डा.पदम जैन की मौत हुई थी।

इसके बाद 27 दिसंबर 2020 को चाचा बसंत जैन का निधन हो गया था। इसके बाद 29 मार्च 2021 को उनकी बड़ी ताई मोतीरानी जैन पत्नी सुरेशचंद्र जैन का कोरोना से निधन हो गया था। हाल ही में 27 अप्रैल 2021 को उनके पिता शांत कुमार जैन का निधन हो चुका है।

5 में से 3 भाइयों की मौत
स्व.डा.पदम जैन परिवार से जुड़े शहर के समाजसेवी और बेतवा उत्थान समिति के अध्यक्ष अतुल शाह ने बताया कि श्रीलाल जैन के 5 बेटों में से 3 की कोरोना से मौत हो चुकी है। मरने वालों में शांत कुमार जैन, डा.पदम जैन और बसंत जैन आदि शामिल हैं। उनके सबसे बड़े भाई सुरेशचंद्र जैन की पत्नी मोतीरानी जैन का भी कोरोना से निधन हो चुका है। सुरेशचंद्र जैन और सतीशचंद जैन अभी स्वस्थ हैं। इस प्रकार एक ही परिवार के 3 भाइयों और उनकी एक भाभी की मौत हो गई।

ये युवा अब बचे हैं परिवार में: शांत कुमार जैन बेटे डा.आशीष जैन अब परिवार में मुखिया की भूमिका निभा रहे हैं। डा.पदम जैन के बेटे डा.अमित जैन, बसंत जैन के बेटे दीपेश जैन और नीलेश जैन तथा मोतीरानी जैन के बेटे सचिन जैन अब जैसे युवाओं के कंधे पर अब पूरे परिवार का बोझ आ चुका है।

खबरें और भी हैं...