पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

लापरवाही से पनपेगा संकट:महज 30 फीसदी ही बन सकी जलावर्धन योजना, यही रफ्तार रही तो इस साल भी गर्मी में नहीं मिलेगा पानी

विजयपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • समय सीमा को गुजरे हुए भी 15 महीने बीते, लेकिन पानी की टंकी तक नहीं बनी

नगर में लोगों को पेयजल की सुविधा उपलब्ध कराने के लिए स्वीकृत की गई जलावर्धन योजना अब विजयपुर नगरवासियों के लिए छलावा साबित हो रही है। कछुआ चाल रहे जलावर्धन योजना के काम की गति इतनी धीमी है कि समयसीमा गुजर जाने 15 माह बाद भी महज 30 फीसदी काम पूरा किया जा सका है।

ठेकेदार अब तक टंकी का आधा ढांचा खड़ा किया है। पहले भुगतान नहीं होने के फेर में और बाद में कोरोना वायरस और लॉकडाउन की वजह से काम शुरू नहीं कराया गया था। बाद में एक कंपनी ने काम छोड़ दिया, जिससे काम की रफ्तार धीमी हो गई है।

विजयपुर में नगरीय विकास विभाग ने वर्ष 2015 में पीने के साफ पानी की सुविधा दिलाने के लिए मुख्यमंत्री जल आवर्धन योजना स्वीकृत की गई थी। 16 करोड़ की लागत से तैयार की जाने वाली इस योजना वैसे तो 31 दिसंबर 2019 को पूरा हो जाना था। लेकिन बीते 5 सालों में जल आवर्धन योजना का काम इस कदर रेंग-रेंग कर चला है कि काम 10 दिन चलता है और बंद हो जाता है।

जलावर्धन योजना के तहत पूरे कस्बे में पाइप लाइन बिछनी थी, मुख्य स्थल पर पानी की टंकी बनानी थी, जिनसे फिल्टर किया हुआ पानी घर-घर तक सप्लाई होना है, लेकिन यह योजना विजयपुर के लिए सपना सा बनकर रह गई है जो पूरी हो ही नहीं रही है।

समय सीमा को गुजरे हुए भी 15 महीने बीत गए, लेकिन एक पानी की टंकी तक पूरी नहीं हो पाई है। हालांकि एमपीयूडीसी के प्रोजेक्ट मैनेजर का दावा है कि अब दोबारा काम शुरू करा दिया गया है। लेकिन स्थानीय लोगों का कहना है कि यदि काम इसी तरह से चला तो इस साल भी गर्मियों में लोगों को पानी नहीं मिल सकेगा।

2 दिनों में सप्लाई हो रहा पानी
नगर में इन दिनों पेयजल व्यवस्था गड़बड़ाई हुई है यूं तो नगर में वर्षभर एक दिन छोड़कर पानी की सप्लाई की जाती है तो वही अप्रैल के महीने से ही पानी की सप्लाई अब 2 दिनों में हो रही है। ऐसे में लोगों को पानी भरने के लिए या तो निजी बोर के ऊपर निर्भर होना पड़ रहा है। वहीं कई लोग हैंडपंप पर पानी भरने के लिए पहुंच रहे हैं।

योजना के ये काम अधूरे
जलावर्धन योजना के तहत पाइप लाइन डालने का कार्य, इंटेकवेल, फिल्टर, प्लांट एवं पेयजल टंकी का निर्माण किया जाना था। इनमें से सिर्फ टंकी का ढांचा ही खड़ा हो सका है। टंकी का निर्माण तक पूरा नहीं किया गया। बाकी सारे काम भी अभी अधूरे हैं। जिन्हें पूरा कराने की बात कही जा रही है।

दिसंबर तक पूरा कराएंगे काम
^विजयपुर में दो कंपनियों को जलावर्धन प्रोजेक्ट का काम दिया गया था। जिसमें से पीसी स्नेहल कंस्ट्रक्शन प्रालि ने काम बंद कर दिया है इसलिए यह काम काफी लेट हो गया है। अब यह काम मैं रियान वाटर प्रालि कर रही है। विजयपुर में जलावर्धन योजना का काम इस साल दिसंबर तक पूरा हो जाएगा।
अरविंद कुमार श्रीवास्तव, प्रोजेक्ट मैनेजर, एमपीयूडीसी ग्वालियर

दो कंपनियों को दिया गया था ठेका
विजयपुर में लोगों को पीने का पानी मुहैया कराने के लिए नगरीय विकास विभाग ने वर्ष2017 में मैं. रियान वाटर प्रा.लि. और पीसी स्नेहल कंस्ट्रक्शन प्रा.लि. को टेंडर जारी किए गए थे। कंपनी को 10 अगस्त 2017 से 850 दिनों में यानी 31 दिसंबर 2019 को काम पूरा करना था। लेकिन यह काम अबतक महज 15 फीसदी हो चुका है। अधिकारियों की मानें तो पीसी स्नेहल कंस्ट्रक्शन प्रा.लि. ने अपना काम बंद कर दिया था। बाद में यह कंपनी अलग हो गई। जिससे पूरा काम अधर में ही लटक गया। अब मैं. रियान वाटर प्रा.लि. काम को पूरा कराया जा रहा है।

क्वारी नदी से सप्लाई हो रहा गंदा पानी
विजयपुर नगर में लोगों को पीने के पानी की सुविधा देने के लिए वर्तमान में कुंवारी नदी से पानी की सप्लाई की जा रही है, लेकिन स्थिति यह है कि नदी का पूरा पानी गंदा पड़ा हुआ है। नदी के ऊपर जहां कई जमा हुई है तो वहीं नगर के तीन बड़े नाले इस नदी में मिलकर नदी को प्रदूषित कर रहे हैं। खास बात यह है कि नदी के ऊपर प्रशासन ने एक बोर्ड लगा रखा है जिस पर लिखा हुआ है कि नदी को प्रदूषित करने वालों पर कार्रवाई की जाएगी लेकिन नालों से प्रदूषित हो रही नदी को साफ करने के लिए नगरीय प्रशासन द्वारा अब तक कोई ठोस कदम नहीं उठाए गए हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- सकारात्मक बने रहने के लिए कुछ धार्मिक और आध्यात्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत करना उचित रहेगा। घर के रखरखाव तथा साफ-सफाई संबंधी कार्यों में भी व्यस्तता रहेगी। किसी विशेष लक्ष्य को हासिल करने ...

    और पढ़ें