अवैध कब्जा:ड्रोन से देखे घाघरला जंगल के हालात, नजर आए कटे पेड़, टीम पहुंची तो भाग गए अतिक्रमणकारी

नेपानगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पानखेड़ा में तबाही मचाने के बाद अतिक्रमणकारियों ने 2 दिन से घाघरला के जंगल की ओर रख किया है। 2 दिन से जंगल काटे जाने की सूचना मिलने पर रविवार को एसडीएम हेमलता सोलंकी और तहसीलदार प्रवीण ओहरिया टीम के साथ घाघरला के जंगल पहुंचे। ड्रोन कैमरे से जंगल के हालात देखे। यहां बड़े पैमाने पर कटे पेड़ नजर आए। लेकिन टीम के पहुंचने की भनक लगते ही अतिक्रमणकारी मौके से भाग निकले। लगातार कटते जंगल से आक्रोशित घाघरला और सीवल सहित आसपास के गांवों के लोग रविवार को भाजपा जिलाध्यक्ष मनोज लधवे के साथ कलेक्टर भव्या मित्तल से मिलने पहुंचे। ग्रामीणों ने कलेक्टर को बताया अक्टूबर में पानखेड़ा का जंगल पूरी तरह तबाह कर दिया गया है।

अब अतिक्रमणकारियों के निशाने पर घाघरला का जंगल है। यहां से प्रशासन ने तीन साल पहले अतिक्रमणकारियों को खदेड़ा था। लेकिन अब यहां उनकी फिर घुसपैठ हो रही है। बताया जा रहा है रविवार को ही अतिक्रमणकारियों ने सीवल नर्सरी में भी पेड़ काटे हैं। कलेक्टर से ग्रामीण बोले तबाह होता जंगल बचा लो मैडम।

बड़ी कार्रवाई की तैयारी : 4 जिलों का फोर्स जुटा रहा प्रशाासन, खंडवा से टीम भी रवाना
जंगल में अतिक्रमणकारियों द्वारा मचाई जा रही तबाही पर अब प्रशासन भी सख्त रवैया अपना रहा है। उसकी जंगल में बड़ी कार्रवाई की तैयारी है। इसके लिए खरगोन, बड़वानी और सेंधवा सहित चार जिलों से फोर्स जुटाया जा रहा है। रविवार दोपहर खंडवा से तो टीम रवाना भी हो चुकी थी। ग्रामीणों ने साफ तौर पर चेताया है कि अब भी वन विभाग और प्रशासन जंगल बचाने आगे नहीं आया तो हम आंदोलन करेंगे। इसकी रणनीति बना रहे हैं। नेपानगर के आंबेडकर चौराहे पर आमरण अनशन करेंगे।

गांव के पास तक आ गए अतिक्रमणकारी
ग्रामीणों ने कलेक्टर से कहा अब अतिक्रमणकारी तीर-कमान और अन्य हथियार लेकर घाघरला गांव की सीमा तक आ गए हैं और ग्रामीणों को धमका रहे हैं। इससे पहले सीवल में घुसकर हथियारबंद अतिक्रमणकारियों ने शक्ति प्रदर्शन किया था। इन हालात से ग्रामीणों में दहशत है। ग्रामीणों की समस्या सुनकर कलेक्टर ने डीएफओ प्रदीप मिश्रा को बुलाया और उनसे ग्रामीणों के सामने रणनीति को लेकर चर्चा की। सोमवार को भी क्षेत्र के ग्रामीण बुरहानपुर पहुंचकर कलेक्टर से मिलेंगे।

ड्रोन से निगरानी की
"को टीम के साथ जंगल की ड्रोन से निगरानी की है। क्षेत्र का भ्रमण किया है। हम स्थिति पर नजर रखे हुए हैं।"
-हेमलता सोलंकी, एसडीएम नेपानगर

खबरें और भी हैं...