कोर्ट का फैसला:नाबालिग से दुष्कर्म के आरोपी को 10 साल की सजा

बुरहानपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

नाबालिग से दुष्कर्म के आरोपी को दस साल जेल की सजा हुई है। सजा का मुख्य आधार डीएनए रिपोर्ट रही। मामले में पुलिस ने तीन लोगों को आरोपी बनाया था, लेकिन सबूत नहीं होने से दो को बरी कर दिया। अपराध के 4 साल बाद सजा सुनाई है।

सोमवार को विशेष न्यायाधीश आरके पाटीदार ने आरोपी रामलाल जुवानसिंह निवासी ग्राम चिरोंजीमाल को सजा दी है। अतिरिक्त जिला अभियोजन अधिकारी रामलाल रंधावे ने बताया घटना मई 2018 की है। नाबालिग परिजनों के साथ गांव में शादी में गई थी। रात करीब 9 बजे नाबालिग शादी वाले घर के आंगन में बैठी थी, तभी वहां नासरिया, रामलाल और ध्यानसिंग बाइक पर आए और आवाज देकर नाबालिग को पास बुलाया।

उसके पास आते ही उसे बाइक पर बैठाकर जंगल ले गए और दुष्कर्म किया। 29 मई को नाबालिग के परिजन उसे ढूंढते हुए नासरिया के घर पहुंचे, तो उसके साथ विवाद हुआ। पुलिस को शिकायत के बाद नाबालिग को बरामद कर तीनों के खिलाफ केस दर्ज हुआ था।

खबरें और भी हैं...