सिंधी बस्ती में सारी दुकानें बंद कर विरोध जताया:पुलिस पूछताछ के लिए पूर्व पार्षद को ले गई, सामाज जन हुए आक्रोशित

बुरहानपुर (म.प्र.)5 महीने पहले

सिंधी बस्ती के पूर्व पार्षद लक्खु कोटवानी को लालबाग थाना पुलिस किसी पुराने मामले में बयान के लिए थाने ले गई। इसके बाद समाजजन आक्रोशित हो गए। सिंधी बस्ती की सारी दुकानें बंद हो गई। लोगों का आरोप था कि लक्खू कोटवानी निर्दलीय प्रत्याशी और खुद की भतीजी मनीषा को सपोर्ट कर रहे हैं, इसलिए उन पर एक पार्टी का दबाव आ रहा है। रहवासी महापौर प्रत्याशी को मौके पर बुलाने की मांग करते रहे। पूर्व महापौर व महापौर प्रत्याशी पति अतुल पटेल वहां पहुंचे। हालांकि कुछ देर बाद पुलिस ने कोटवानी को छोड़ दिया। उन्होंने कहा-मुझे पुलिस ने पूरा सर्पोट किया। मेरे उपर कोई नया, पुराना मामला नहीं है। पुलिस द्वारा सिर्फ यह पूछा गया कि आप चुनाव लड़ रहे हैं मैंने कहा नहीं। मैं निर्दलीय प्रत्याशी को समर्थन दे रहा हूं। इसके बाद छोड़ दिया गया।

वहीं कोटवानी के वापस आने पर सारी दुकानें खुलवाई गई। समाजजन ने उनका फूलमालाओं से स्वागत किया। उन्होंने कहा भाजपा दबाव की राजनीति कर रही है, लेकिन पुलिस ने सपोर्ट किया। मौके पर महापौर प्रत्याशी माधुरी पटेल के पति अतुल पटेल भी पहुंचे। वह इस तरह के आरोप लगाने पर नाराज हुए। उन्होंने कहा-आपको वोट नहीं देना है तो मत दो, लेकिन इस तरह के गलत आरोप और नारेबाजी मत करो। पुलिस उन्हें ले गई तो यह उनका व्यक्तिगत मामला हो सकता है। हमारा इससे कोई लेना देना नहीं है। काफी देर की गहमागहमी के बाद मामला शांत हुआ।

खबरें और भी हैं...