• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Burhanpur
  • The Relatives Created A Ruckus By Placing The Dead Body Outside The Police Station, Demanded To Register An FIR

पत्नी से प्रताड़ित होकर पति ने खाया कीटनाशक:मृतक की जेब से मिला सुसाइट नोट, परिजनों ने थाने के बाहर किया हंगामा

बुरहानपुर (म.प्र.)2 महीने पहले
  • मृतक की जेब से मिला सुसाइट नोट, परिजनों ने थाने के बाहर किया हंगामा

सेवा से बर्खास्त नेपानगर निवासी होमगार्ड जवान ने बुधवार शाम अपने घर में कीटनाशक दवा पी ली। जिसकी वजह से देर रात उसकी मौत हो गई। गुरूवार सुुबह पोस्टमार्टम कर शव परिजन के सुपुर्द किया गया। परिजन ने आरोप लगाया कि पत्नी और ससुराल पक्ष से परेशान होकर उसने मौत को गले लगाया है। परिजन ने नेपानगर थाना परिसर के सामने शव रखकर जमकर हंगामा किया।

मृतक सचिन वर्मा के भाई अमरसिंह वर्मा ने बताया सचिन छह माह से नौकरी पर नहीं था। पत्नी कहती थी जमीन मेरे नाम कर दो। कुछ दिन पहले जेवर लेकर अपनी बहन के यहां जाकर रहने लगी थी। इसी बीच थाने में झूठी शिकायत भी कर दी थी कि सचिन प्रताड़ित करता है। इससे आहत होकर उसने कीटनाशक पीकर अपनी जान दे दी।

एफआईआर दर्ज करने की मांग की

गुरूवार सुबह बुरहानपुर में पोस्टमार्टम के बाद शव एंबुलेंस से नेपानगर ले जाया गया। नेपा थाने में मृतक परिजन ने हंगामा किया। उनका कहना था कि बर्खास्त होमगार्ड सैनिक की पत्नी पर एफआईआर दर्ज की जाए। मामला फिलहाल जांच में है। टीआई राजेंद्र इंगले ने उन्हें समझाईश दी। वहीं एसडीओपी यशपाल सिंह ठाकुर ने कहा- शिकायत ली है। मामले की जांच कर रहे हैं।

बर्खास्त होमगार्ड सैनिक की जेब से निकला सुसाइड नोट
मृतक के परिजन ने बताया सचिन के जेब से सुसाइड नोट निकला। वह पत्नी और ससुराल पक्ष से परेशान था। पुलिस सुसाइड नोट की सत्यता की भी जांच कर रही है।

यह है सुसाइड नोट में

मैं सचिन वर्मा मैं मेरी पत्नी शोभा वर्मा से शारीरिक व मानसिक रूप से परेशान हा चुका हूं। मेरी पत्नी शोभा, मेरी सास लक्ष्मीबाई, मेरा साला कृष्णकुमार पप्पु व मेरा साला पवन सभी ने मुझे सितंबर 2011 से आज तक बहुत परेशान किया। मारपीट भी की। यह लोग मेरे बच्चों से भी नहीं मिलने देते। रोजाना किसी न किसी बहाने परेशान करते हैं। आदिन पैसे भी मांगते रहते हैं। मेरी पैतृक खेती भी नाम करने का कहकर मारपीट करते है। जिसके कारण मैं आज परेशान होकर आत्महत्या कर रहा हूं। अतः पुलिस अधीक्षक महोदय से निवेदन है कि इन्हें जरा भी न बक्शा जाए। क्योंकि इन्होंने ही मेरी गलत रिपोर्ट थाने में लिखवाई है। इन सभी को कड़ी से कड़ी सजा देना साहब जी। मेरे माता पिता व बहन भाई से क्षमा चाहूंगा कि मैं आपके लिए कुछ नहीं कर पाया। मेरे दोनों बच्चों का ख्याल रखना। मैंने जैसा रखा वैसा रखना। आपका बेटा।