19 विषयों में होगा शोध:456 छात्रों को महाराजा छत्रसाल बुंदेलखंड यूनिवर्सिटी में मिलेगा शोध के लिए एडमिशन

छतरपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

महाराजा छत्रसाल बुंदेलखंड यूनिवर्सिटी छतरपुर में पहली बार 465 शोधार्थियों को पीएचडी उपाधि मिलेगी। यूनिवर्सिटी में 2018 के प्रावधानों के तहत इस शोधार्थियों को प्रवेश मिला है। यह छतरपुर जिले के लिए अच्छी और सुखद खबर है। पात्रता परीक्षा में चयनित इन छात्रों के अब विषयवार इंटरव्यू लिए जा रहे हैं।

अब छतरपुर जिले के छात्रों, युवाओं और शोधार्थियों को शोध कार्य, पीएचडी के लिए बाहर नहीं जाना पड़ेगा। छतरपुर युनिवर्सिटी में शोध कार्य के लिए इस वर्ष 465 शोधार्थियों को प्रवेश दिया गया है। महाराजा छत्रसाल बुंदेलखंड यूनिवर्सिटी छतरपुर के रजिस्ट्रार डॉ.जेपी मिश्रा ने बताया कि फिलहाल हमारे यहां 19 विषय में पीएचडी कराई जाएगी।

शोध कार्य के लिए 943 लोगों ने आवेदन किया था। इनमें 319 लोग क्वालिफाई हुए। वहीं जेआरएफ एवं नेट के माध्यम से 146 आवेदन आए थे। इस प्रकार शोध कार्य पीएचडी के लिए 465 शोधार्थियों को क्वालिफाई माना गया। डॉ. मिश्रा ने बताया कि शोध कार्य के लिए क्वालिफाई 465 लोगों के इंटरव्यू लिए जा रहे हैं।

अभी हिंदी विषय के इंटरव्यू चल रहे हैं। इसके बाद क्रमश: अन्य विषयों के भी इंटरव्यू लिए जाएंगे। इसके बाद प्रवेश देकर शोध कार्य कराया जाएगा। उन्होंने बताया कि शोध कार्य के लिए सागर संभाग के सागर, दमोह, पन्ना, छतरपुर, टीकमगढ़ और निवाड़ी जिलों के एफीलेटिड कॉलेज के प्रोफेसरों को गाइड के रूप में चुना गया है। यह प्रोफेसर शोधार्थियों को शोध कार्य कराएंगे।

पीएचडी के लिए नहीं जाना पड़ेगा बाहर
छतरपुर यूनिवर्सिटी में शोध कार्य शुरू होने एवं प्रवेश प्रक्रिया शुरू हो जाने से अब पीएचडी करने के इच्छुक युवाओं और छात्रों को यहीं सुविधाजनक ढंग से शोध कार्य कराया जाएगा। उन्हें पीएचडी के लिए जिले से बाहर जाने की जरूरत नहीं होगी। पहले छात्रों को पीएचडी करने के लिए दूसरे शहरों में जाना पड़ता था। इससे छात्रों को असुविधा होती थी।

खबरें और भी हैं...