काम में कोताही बर्दाश्त नहीं:कलेक्टर ने दूरस्थ क्षेत्रों में तालाबों के चल रहे गहरीकरण का किया औचक निरीक्षण

छतरपुर (मध्य प्रदेश)2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कलेक्टर संदीप जी आर ने जिला पंचायत द्वारा किये जा रहे जिले के दूरस्थ जलाभिषेक अभियान अंतर्गत अमृत सरोवर से नवीन तालाब, पुष्कर धरोहर एवं चंदेल कालीन तालाबों के चल रहे गहरीकरण कार्य का औचक निरीक्षण किया।

कलेक्टर ने शनिवार को छतरपुर के ग्राम खौप और निवारी के तालाबों का निरीक्षण करते हुए कहा की तालाबों के चल रहे गहरीकरण के कार्य में और तेज़ी लाये। तालाबों के किनारे पौध रौपण करें जिससे तालाब में वॉटर रिटेंसन रहे। पानी के आने वाले रास्ते को क्लीन रखा जाएगा।

कलेक्टर ने इंजीनियर को मौके पर समझाया प्लॉन

कलेक्टर जी आर ने मौके पर ही इंजीनियर को तालाबों में पानी के आने वाले कैचमेंट एरिया का नये सिरे से डिजाइन के बारे में बताया और उसको तत्काल अमल में लाने के निर्देश दिए। उन्होंने कार्य पर पाई गई कमियों पर संबंधित को नोटिस जारी करने एवं प्राथमिकता के आधार पर तत्काल अमल में लाते हुए निराकरण करने के निर्देश दिए। जिससे तालाबों में पानी ज्यादा से ज्यादा भराव हो सके और किसानों की खेती एवं आर्थिक कार्यों में लंबे समय तक पानी उपलब्ध रहे। कलेक्टर ने खौप के तालाब का निरीक्षण करते हुए कहा कि वर्षा आने के पूर्व प्राथमिकता से समय और गहरीकरण का कार्य पूर्ण हो जाए। एक साथ पूरे तालाब के गहरीकरण की योजना भी तैयार करें।

कलेक्टर अपने निरीक्षण के क्रम में गौरिहार के दूरस्थ क्षेत्र ग्राम रतनपारा, गघबारा एवं प्रकाश बम्हौरी सहित लवकुशनगर के शिल्पतपुरा, कटहरा में चल रहे तालाबों के गहरीकरण कार्य का भौतिक निरीक्षण किया। कलेक्टर ने कहा कि पानी के आने वाले रास्ते में कोई अवरुद्ध न रहे। वर्षा का जल सीधा तालाबों में पहुंचे। उन्होंने सभी तालाबों के सीमांकन कराने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि तालाबों से निकलने वाली बेहद उर्वरक क्षमता युक्त मिट्टी किसानों के खेतों में डाली जाए। जिससे उनकी खेतों की उर्वकर क्षमता बढ़े।