यात्रियों को सुविधा बढ़ेगी:अब प्राइवेट पब्लिक पार्टनरशिप से निर्मित होगा आईएसबीटी स्टैंड

छतरपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

नपा छतरपुर द्वारा भेजे गए 55 करोड़ के डीपीआर में परिवर्तन कर दोबारा भेजेंगे शहर में महोबा रोड स्थित सौंरा मौजा की 3.42 हेक्टेयर शासकीय जमीन पर प्रस्तावित आईएसबीटी स्टैंड निर्माण का डीपीआर तैयार कर पिछले दिनों नपा छतरपुर द्वारा भोपाल भेजा गया।

जिसे नगरीय प्रशासन विभाग ने वापस करते हुए प्राइवेट पब्लिक पार्टनरशिप से निर्माण कराने के निर्देश दिए हैं। जिसका पालन करते हुए नगर पालिका प्रशासन ने एक बार फिर 55 कराेड़ का डीपीआर तैयार किया है। जिसे नगरीय चुनाव प्रक्रिया पूरी होने के बाद मंजूरी के लिए फिर से भोपाल भेजा जाएगा।

बता दें कि शहर से दो नेशनल हाईवे निकलने होने के कारण ट्रेफिक अधिक रहता है, जिससे आए दिन लोग हादसे का शिकार होते हैं। इसे कम करने के साथ अन्य राज्यों से आने वाली बसों को शहर से बाहर रखने के लिए महोबा रोड पर आईएसबीटी स्टैंड का निर्माण नगर पालिका प्रशासन द्वारा 3.42 हेक्टेयर जमीन पर कराया जा रहा है।

जिसका पिछले दिनाें 55 करोड़ का डीपीआर तैयार कर नगरीय प्रशासन विभाग भाेपाल को भेजा गया। जिसे नगरीय प्रशासन विभाग ने ना-मंजूर करते हुए प्राइवेट पब्लिक पार्टनरशिप से बनाने के निर्देश दिए हैं। जिसकी नगर पालिका प्रशासन ने फिर से डीपीआर तैयार कर ली है। जिसे त्रिस्तरीय पंचायत एवं नगरीय निकाय चुनाव के बाद एक बार फिर मंजूरी के लिए भोपाल भेजा जाएगा।

एक साथ चार सौ बसें रुक सकेंगी स्टैंड पर, यात्रियों को रुकने-ठहरने की होगी सुविधा

55 करोड़ रुपए की लागत से निर्मित होने वाले बस स्टैंड का इस तरह से निर्माण किया जाएगा कि उसमें एक साथ 400 बस खड़ी हो सकेंगी। इसके साथ ही यात्रियों की सुविधाएं के लिए रुकने और ठहरने की व्यवस्था होगी। वहीं स्टैंड परिसर में रेस्टारेंट, वेटिंग एरिया, पार्किंग जोन भी होगा। टिकट काउंटर और अलग-अलग क्षेत्रों की बसों के लिए स्थान निर्धारित होंगे। साथ ही स्टैंड पर शॉपिंग कॉम्पलेक्स का निर्माण होगा। जिससे जिले के पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। साथ ही लोगों को परिवहन से जुड़े रोजगार मिलेंगे और अन्य व्यवसायिक रोजगार भी बढ़ेंगे।

प्रस्ताव तैयार, चुनाव होनेके बाद भेजेंगे भोपाल
शहर के महोबा रोड पर प्रस्तावित बस स्टैंड निर्माण का डीपीआर तैयार कर पिछले दिनों भोपाल नगरीय प्रशासन विभाग को भेजा। इसकी लागत अधिक होने के कारण विभाग ने प्राइवेट पब्लिक पार्टनरशिप (पीपीपी) का डीपीआर तैयार कर भेजने को कहा है। विभाग के आदेश पर पीपीपी के तहत डीपीआर तैयार कर लिया गया है, जिसे चुनाव खत्म होने के बाद भोपाल भेजा जाएगा।
- ओमपाल सिंह भदौरिया, सीएमओ नगर पालिका छतरपुर

खबरें और भी हैं...