• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Chhindwara
  • Bamboo Replaced Railing On Pench River Bridge In NHAI 547, The Argument Of The Officer Is Not Where To Put The Railing

गडकरी जी! ऐसी है नागपुर जाने वाले हाईवे की तस्वीर:छिंदवाड़ा में पेंच नदी के पुल से रेलिंग बही तो 3 बांस बांध दिए; अफसर बोले- बजट ही नहीं है

छिंदवाड़ा5 महीने पहलेलेखक: सचिन पांडे
छिंदवाड़ा के पास पेंच नदी में रेलिंग की जगह लगा दिए बांस।

नितिन गड़करी केंद्रीय परिवहन मंत्री हैं। उनके संसदीय क्षेत्र से लगे हुए छिंदवाड़ा में हाईवे की शर्मनाक तस्वीर सामने आई है। यहां बजट के अभाव में रेलिंग की जगह बांस बांध दिए गए हैं। सवाल यह है कि क्या यह बांस हाईवे पर हादसा रोक देंगे? पिछले साल भारी बारिश के चलते पेंच नदी में आई बाढ़ के कारण छिंदवाड़ा-नरसिंहपुर राष्ट्रीय राजमार्ग 547 में सिंगोड़ी के पुल पर लगी रेलिंग तेज बहाव में बह गई थी। साल गुजर गया लेकिन नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (NHAI) इसे दुरुस्त नहीं कर पाई और बांस बांधकर इतिश्री कर ली है। अफसर बजट का इंतजार कर रहे हैं। सवाल यह है कि बारिश में हादसा भी इंतजार करेगा?

एक दिन पहले ही गुरुवार को होशंगाबाद में तेज रफ्तार ट्रक तवा नदी के पुल पर बनी रेलिंग को तोड़कर पुल पर लटक गया था। जब अनियंत्रित ट्रक को रेलिंग नहीं संभाल पाई तो ये बांस की बलियां लोडिंग वाहन को कैसे संभालेगी?

24 घंटे रहता है आवागमन

NH 547 सबसे व्यस्ततम मार्ग में से एक है। यह नरसिंहपुर से नागपुर को जोड़ने वाला इकलौता हाईवे है। जिस पर 24 घंटे आवागमन जारी रहता है। ऐसे में छिंदवाड़ा मुख्यालय से लगभग 22 किलोमीटर दूर स्थित सिंगोड़ी के पेंच नदी के पुल पर रेलिंग ना होने से यहां कभी भी हादसा हो सकता है।

होशंगाबाद-पिपरिया हाईवे पर बड़ा हादसा टला:गड्‌ढे से बचने के चक्कर में ट्रक का संतुलन बिगड़ा, नदी की रैलिंग तोड़ते हुए पुल पर लटक गया

पहले भी हो चुका है हादसा

90 के दशक में सिंगोड़ी स्थित इसी पेंच नदी में एक बस अनियंत्रित होकर बह गई थी, जिसमें कई लोगों ने अपनी जान गंवा दी थी। हालांकि उस समय इस स्थान पर छोटा पुल था, लेकिन अब यहां बड़े पुल का निर्माण हो चुका है। एहतियातन यह स्थान ब्लैक स्पॉट के रूप में चिन्हित है, फिर भी इस पर प्रशासन के अधिकारियों के द्वारा कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। जो बड़े हादसे का कारण बन सकता है।

NHAI अधिकारी फंड न होने की दे रहे दुहाई

इस संबंध में भास्कर ने जब NHAI के अधिकारी रवि से बात की तो उन्होंने कहा कि उनके पास फंड नहीं है, इसलिए रेलिंग की जगह बांस बांध दिए गए हैं। जैसे ही फंड आएगा एक दो महीने में रेलिंग लगा दी जाएगी।

खबरें और भी हैं...