• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Chhindwara
  • BJP Leader Himself Accused The Former MLA Of His Party, Wrote A Letter To The SDM, Nathan Shah Reached The Police To Complain

पूर्व विधायक करा रहे SDM से हफ्ता वसूली!:भाजपा नेता ने ही अपनी पार्टी के पूर्व विधायक पर लगाया आरोप, SDM को लिखा खत, पुलिस में शिकायत करने पहुंचे नत्थनशाह

छिंदवाड़ा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पूर्व विधायक नत्थनशाह कवडेती और शंकर लाल सेन - Dainik Bhaskar
पूर्व विधायक नत्थनशाह कवडेती और शंकर लाल सेन

जुन्नारदेव में दशहरा से एक दिन पहले राजनीतिक हलके में उस वक्त भूचाल आ गया जब भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व विधायक रहे किसान मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष नत्थनशाह कवडेती पर उनकी ही पार्टी के पूर्व जिला महामंत्री शंकरलाल सेन ने अधिकारियों से हफ्ता वसूली का बड़ा आरोप लगाकर सनसनी फैला दी। दरअसल भाजपा नेता शंकर लाल सेन ने नत्थन शाह पर आरोप लगाया है कि उन्होंने रेस्ट हाउस में एसडीएम के साथ अधिकारियों की एक बैठक बुलाई थी जिसमें अधिकारियों से दशहरे के पहले 4 लाख रूपए एकत्र करने का दबाव बनाया गया। सारे मामले में बकायादा भाजपा के पूर्व जिला महामंत्री शंकरलाल सेन ने एसडीएम को पत्र लिखकर उनसे पूछा है कि क्या उन्होंने पीडब्ल्युडी रेस्ट हाउस में सभी विभागीय अधिकारी की बैठक बुलाकर उन्हे 4 लाख रूपए एकत्रित कर नत्थनशाह कवडेती को देने का फरमान दिया है। सेन ने एसडीएम को लिखे पत्र में यह भी लिखा है कि क्या सभी अधिकारी अपना भ्रष्टाचार छुपाने के लिए नत्थनशाह कवडेती को यह राशि दे रहे है या फिर अपने वेतन से वे इतनी बड़ी राशि पूर्व विधायक को देंगे। यह जानकारी देने का कष्ट करे।
पूर्व विधायक पहुंचे थाने, कर रहे शिकायत
सारे मामले को पूर्व विधायक नत्थनशाह कवडेती ने कहा कि ऐसी कोई मीटिंग नहीं हुई है, मैं इसी मामले को लेकर थाने आया हूं, मामले की शिकायत दर्ज कराउंगा। पूर्व विधायक इस मामले में थाने भी पहुंचे तथा उन्होंने पुलिस को सारे मामले से अवगत करा दिया है।
शंकरलाल सेन बोले-FIR करने से क्या होगा
एसडीएम ने तीन दिन पहले एक बैठक लेकर अधिकारियों को 4 लाख एकत्रित कर नत्थनशाह कवडेती को देने के लिए कहा है। यह गलत प्रक्रिया है, मैने इस सबंध में एसडीएम को एक पत्र लिखा है। उस मीटिंग में एसडीएम और नत्थनशाह कवडेती मौजूद थे। वहीं शंकरलाल सेन ने कहा कि पूर्व विधायक कवडेती यदि एफआईआर करते है तो करने दो उससे क्या होगा।
एसडीएम ने नहीं उठाया फोन
एसडीएम मधुवंत राव धुर्वे से जब सारे मामले को लेकर भास्कर डिजीटल ने उनका पक्ष लेना चाह तो उन्होंने फोन रिसीव नहीं किया। जिसके बाद उनका पक्ष सामने नहीं आ पाया है।
SDM का रीडर पकड़ाया था रंगे हाथ
गौर किया जाए तो जुन्नारदेव एसडीएम मधुवंत राव धुर्वे के कार्यालय में पिछले दिनों उनका रीडर एक मामले में 5 हजार रूपए की रिश्वत लेते पकड़ाया था जिसके बाद से लगातार एसडीएम सुर्खियों में है।

खबरें और भी हैं...