पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Chhindwara
  • BJP Leaders Raised Questions On The Only Congress MP Of MP Nakulnath's Visit To Chhindwara! Then The Politics Of The Hot District

संसद सत्र के दौरान छिंदवाड़ा में क्या कर रहे सांसद:भाजपा नेताओं ने उठाए मप्र के इकलौते कांग्रेसी सांसद नकुलनाथ के छिंदवाड़ा दौरे पर सवाल! फिर गर्मायी जिले की सियासत

छिंदवाड़ा3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फोटो कैप्शन - जिला भाजपा अध्यक्ष विवेक बंटी साहू ने नकुलनाथ के दौरे को लेकर सवाल उठाए है। - Dainik Bhaskar
फोटो कैप्शन - जिला भाजपा अध्यक्ष विवेक बंटी साहू ने नकुलनाथ के दौरे को लेकर सवाल उठाए है।

संसद का मानसून सत्र 19 जुलाई से शुरू हो गया है, ऐसे में मप्र के इकलौते कांग्रेसी सासंद नकुलनाथ अपने संसदीय क्षेत्र छिंदवाड़ा के 3 दिवसीय प्रवास पर है। जिसको लेकर जिला भाजपा अध्यक्ष विवेक बंटी साहू ने नकुलनाथ के दौरे को लेकर सवाल उठाए है। दरअसल मंगलवार को विवेक बंटी साहू ने एक बयान जारी करते हुए कहा है कि मानसून का महत्वपूर्ण सत्र 19 जुलाई से शुरू हो गया लेकिन जिले के सांसद नकुलनाथ पिकनिक मनाने छिंदवाड़ा आए है, ऐसे में वे जिले और प्रदेश के मुददों को प्रति कितने गंभीर है, यह स्पष्ट हो रहा है।

जिला भाजपा अध्यक्ष विवेक बंटी साहू
जिला भाजपा अध्यक्ष विवेक बंटी साहू

सांसद नकुलनाथ को चाहिए था कि वह संसद सत्र के दौरान जिले के विभिन्न मुददों को उठाते लेकिन वह छिंदवाड़ा में घूम रहे है। उन्हे जिले की समस्याओं से कोई मतलब नहीं है। साहू ने यह भी आरोप लगाया कि जब कोरोना की तीसरी लहर पीक पर थी तो सांसद का पता नहीं था।
जिले की समस्याओं को कब रखेंगे संसद में
सांसद नकुलनाथ के दौरे पर छिंदवाड़ा में जारी सियासत के बीच भाजपा ने यह आरोप लगाया है कि जिले में अभी भी कई समस्याएं है जिसकी आवाज संसद में उठाई जानी चाहिए, लेकिन सांसद संसद के मानसून सत्र को छोडक़र छिंदवाड़ा में कांग्रेस कार्यकर्ताओं को इकठठा कर रहे है, जिससे यह जाहिर हो रहा है कि उन्हे जिले की समस्याओं से कोई लेना देना नहीं है।
मप्र के इकलौते कांग्रेस के सांसद है नकुलनाथ

सांसद नकुलनाथ
सांसद नकुलनाथ

गौरतलब हो कि मप्र के पूर्व सीएम और कददावर नेता कमलनाथ के पुत्र नकुलनाथ मप्र में कांग्रेस के इकलौते सांसद है। ऐसे में वे अपने संसदीय क्षेत्र छिंदवाड़ा के अलावा मप्र के ज्वलंत मुददों को संसद में उठाकर सरकार का ध्यानाकर्षण करा सकते है, लेकिन उनका संसद का मानसून सत्र छोडक़र संसदीय क्षेत्र का दौरा करना वाकई समझ से परे है।

खबरें और भी हैं...